Tuesday , November 21 2017
Home / Bihar/Jharkhand / झारखण्ड कांड: क्या शंकराचार्य ने भीड़ को उकसाया था ?

झारखण्ड कांड: क्या शंकराचार्य ने भीड़ को उकसाया था ?

बालूमाथ: हाल ही में झारखण्ड में एक भीड़ ने दो मुस्लिम युवकों कि हत्या कर उनकी लाश पेड़ पर लटका दी थी, उनके रिश्तेदारों ने इलज़ाम लगाया है कि उनकी हत्या एक राष्ट्रीय स्तर के हिन्दू गाय संरक्षण समूह ने क्या है, जो हत्या के लिए जाँच के दायरे में हैं जो पशु व्यापारियों से घृणा करते हैं,

पिछले शुक्रवार को झारखण्ड के बालूमाथ में मज़लूम अंसारी (32) और इम्तियाज़ खान (13) को एक भीड़ ने कथित तौर एक पेड़ में  फांसी लगा कर मार डाला था, जबकि दोनों मवेशियों कि एक झुण्ड को लेकर एक पशु मेले में जा रहे थे , उस छेत्र में मवेशी व्यापार और गोमांस खाने को लेकर हिंदू और मुसलमानों के बीच विवाद का एक ज्ञात इतिहास रहा है।

पीड़ित के परिवार के सदस्यों, ग्रामीणों और स्थानीय राजनीतिक नेताओं ने आचार्य गोपाल मणि जी महाराज, पर इलज़ाम लगाया है। जो एक कथा (उपदेशक) भारतीय गौ क्रांति मंच के एक समूह के लीडर हैं जो गाय की आबादी के संरक्षण के लिए काम करता है और उनके वध का विरोध किया है

उसी समूह के एक सदस्य को पांच संदिग्धों के हत्या के लिए पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

पूर्व राष्ट्रीय जनता दल के विधायक रामचन्द्र सिंह, मनिका ने कहा, कि “लातेहार में अपने धार्मिक प्रवचनों में, द्रष्टा मवेशी व्यापार और गोहत्या के खिलाफ अत्यधिक बयान देते रहे हैं। अपने उपदेश के बाद, उनके अनुयायियों द्वारा दीवारों पर पेंट कर गोमांस खाने वाले को फांसी देने जैसी लेख लिखते रहे हैं,

शंकराचार्य दी हिन्दुस्तान टाइम्स को टिप्पणी देने के लिए उपलब्ध नहीं हो सके स्वतंत्र रूप से उन पर लगे आरोपों को वेरीफाई न्ही कर सके,

“हमें ठोस जानकारी है कि बालूमाथ ब्लॉक से बजरंग दल के कुछ कार्यकर्ताओं ने हाल ही में शंकराचार्य से मिलने के लिए दिल्ली गए थे ,” एक मानवाधिकार समूह के प्रमुख जनस्न्ग्राम मोर्चा झारखंड, के मदन पाल ने कहा।

उन्होंने कहा कि भगवा कार्यकर्ता 28 फरवरी को दिल्ली से लौट आए और हत्याओं को अंजाम दिया।

लेकिन मंच ने आरोपों को खारिज कर दिया और कहा कि एक ऐसे देश में जहां गाय को माँ का दर्जा दिया जाता है उसकी रक्षा करने के लिए कहा यह कोई अपराध नहीं,

“राजनेता मवेशी व्यापारियों की हत्या के लिए एक राजनीतिक रंग देने पर तुली हुई हैं। हम हिंसा के खिलाफ हैं और किसी भी हत्या में कोई हाथ नहीं है, “संजीव कुमार सिन्हा, गौ क्रांति मंच के राज्य सदस्य ने कहा।

“पिछले साल हमारा एक मुस्लिम गौ कथा वाचक (गाय संरक्षण उपदेशक) फैज खान लातेहार निवासियों को संबोधित कर रहे थे कि क्यों गाय की रक्षा की जानी चाहिए ”

खान की मां अरहरा गांव में रहती है ,जो गहरी माओवादी हिंसा प्रभावित जगह है- बालूमाथ ब्लॉक के अंदर, कोई सड़क या मोबाइल कनेक्टिविटी नहीं है , सात बच्चों के बीच चौथा, खान एकमात्र रोटी कमाने वाला है जो अपने पिता के पशु व्यापार व्यवसाय में शामिल हो गए परिवार की आय के लिए काम करता था,  उसने कहा। लातेहार तीव्र ड्राफ्ट की स्थिति से जूझ रहा है और खेतों सुखा चल रहा था।

“मेरे पति के पैर एक सड़क दुर्घटना में छतिग्रहस्त हो गया और मेरे बड़े बेटे, फिरोज खान मानसिक रूप से बीमार है। खान एक नाबालिग होने के बावजूद, वह परिवार के खर्च बनाए रखने के लिए अकेला काम कर रहा था , “खान की मां ने कहा।

“भगवान के लिए, हमें एक नौकरी और मुआवजा प्राप्त करने में मदद करें ।”

 

TOPPOPULARRECENT