Wednesday , November 22 2017
Home / Bihar/Jharkhand / झारखण्ड में स्कूली किताबों से स्कूलों को 19 करोड़ का कमीशन !

झारखण्ड में स्कूली किताबों से स्कूलों को 19 करोड़ का कमीशन !

रांची : प्राइवेट स्कूल गार्जियन से पैसे वसूलने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपनाता है. कभी किताब-कॉपी के नाम पर, तो कभी ड्रेस के नाम पर तो कभी कोचिंग कराने के नाम पर. इनके चक्रव्यूह में फैमिली उलझ जाते हैं. प्राइवेट स्कूलों की मनमानी के सामने गार्जियन बेबस है. नये सेशन शुरू होने के साथ किताब-कॉपी के नाम दुकानदार मोटी रकम वसूल रहे हैं. गार्जियन चाह कर भी कुछ नहीं कर पा रहे़. इंतेजामिया ने भी स्कूलों को हुक्म देकर अपना काम पूरा समझ लिया़ कुछ स्कूलों को छोड़ राजधानी के ज़्यादातर स्कूलों की किताब तय दुकान से मिलती है़. स्कूल व दुकानदार मिल कर किताब व कॉपी के लिए गार्जियन से मनमाना पैसा वसूल रहे हैं. आलम यह है कि क्लास एक की किताब-कॉपी के लिए तीन हजार रुपये तक लिये जा रहे है़ .

एक अनुमान के मुताबिक किताब-कॉपी के कमीशन से राजधानी के स्कूलों को तकरीबन 19 करोड़ रुपये की कमाई होती है़. किसी भी स्कूल में एक पब्लिशर की किताब नहीं पढ़ाई जाती है़ ऐसे में बाजार की किसी आम दुकान में सभी किताबों का मिलना मुमकिन नहीं है. किताब उसी दुकान में मिलती है, जिस दुकान से स्कूलों की सेटिंग होती है़ कोई भी आम दुकानदार एक क्लास के लिए 10 बब्लिशर की किताब नहीं रख सकता़. पब्लिशर दुर्गा पूजा के बाद से स्कूल की दौड़ लगना शुरू कर देते है़. अक्तूबर से लेकर दिसंबर तक पब्लिसर का स्कूल आना-जाना लगा रहता है़. स्कूल पब्लिसरों से किताब पर कमीशन तय करते हैं. पब्लिसर से एक किताब पर स्कूलों को तकरीबन 20% तक का कमीशन मिलता है़ पब्लिसर तय होने के बाद स्कूल दुकानदार भी तय करते है़ . स्कूल से मंजूरी मिलने के बाद पब्लिसर ये दुकानदार को किताब मुहैया कराता है़ दुकानदार भी स्कूलों को लगभग 10% कमीशन देता है़ ऐसे में एक किताब पर स्कूल को लगभग 30% तक का कमीशन मिलता है़ अगर एक किताब की कीमत 100 रुपये है, तो 30 रुपया स्कूल को मिलता है़.

पब्लिसर भी मनमाने तरीके से किताब की कीमत तय करते हैं. स्कूल व दुकानदार की कमीशन तय होने के बाद पब्लिसर अपना मुनाफा तय करते हैं . ऐसे में बच्चों तक किताब पहुंचते-पहुंचते कीमत लागत मूल्य के मुकाबले में लगभग 60 से 70% तक अधिक हो जाती है़ यह रक़म गार्जियन से वसूली जाती है़ ऐसे में 100 रुपये की किताब के लिए अभिभावक को 160 से 170 रुपये तक देने पड़ते हैं. राजधानी में मंजूरी हासिल व गैर मंज़ूर हासिल तकरीबन 110 सीबीएसइ व आइसीएसइ स्कूल हैं. एक स्कूल में दो हजार से पांच हजार तक बच्चे पढ़ते हैं. एक स्कूल में अगर औसत दो हजार बच्चे भी पढ़ते हैं, तो राजधानी के 110 प्राइवेट स्कूलों में पढ़नेवाले बच्चों की तादाद तकरीबन 2,20,000 लाख हो जायेगी . क्लास नर्सरी से आठ तक के बच्चे की किताब के लिए 3000 से 3500 रुपये तक लिये जाते जा रहे हैं. एक बच्चे की औसत किताब व कॉपी की कीमत तीन हजार रुपये भी मान ली जाये, तो किताब की कीमत 66 करोड़ रुपये होगी.

निजी स्कूलों की तादाद 110
एक स्कूल में औसत बच्चों की तादाद 2000
स्कूल में कुल बच्चों की तादाद 2,20,000
एक बच्चे के औसत किताब-कॉपी की कीमत 3000
दो लाख बच्चों के किताब-कॉपी की कीमत 66 करोड़
66 करोड़ में 30 फीसदी कमीशन 19 करोड़

यहां मिलती इन स्कूलों की किताब
दिल्ली पब्लिक स्कूल
एलिट बुक रोस्पा टावर
संत फ्रांसिस बनहोरा
एलिट बुक रोस्पा टावर
बिशप वेस्टकॉट ब्वॉयज स्कूल
प्रेम पुस्तकालय
संत माइकल स्कूल
नारायण पुस्तक भंडार
ऑक्सफोर्ड स्कूल
न्यू बुक सेंटर डोरंडा
टेंडर हार्ट स्कूल
न्यू बुक सेंटर
संत माइकल स्कूल
कैपिटल पुस्तक केंद्र
बिशप वेस्टकाॅट गर्ल्स स्कूल
प्रेम पुस्तकालय
सेक्रेड हार्ट स्कूल
एलिट बुक रोस्पा टावर
संत जेवियर स्कूल डोरंडा
एलिट बुक रोस्पा टावर
लोरेटो कॉन्वेंट डोरंडा
एलिट बुक रोस्पा टावर
सुरेंद्रनाथ सेंटेनरी
बुक हैरिटेज व पुस्तक मंदिर
गुरुनानक स्कूल : बुक हैरिटेज
संत थॉमस स्कूल
स्टूडेंट जेनरल स्टोर धुर्वा
लोयला स्कूल : ग्रंथ भारती
बिशप हार्टमैन स्कूल
जयश्री बुक हाउस
मनन विद्या : पुस्तक मंदिर
कैराली स्कूल : स्टूडेंट जनरल स्टोर धुर्वा
सरला बिरला पब्लिक स्कूल
रंगोली बैंक्वेट हॉल

TOPPOPULARRECENT