टिड्डों का प्रकोप सऊदी अरब से मिस्र तक फैला, संयुक्त राष्ट्र ने दी चेतावनी

टिड्डों का प्रकोप सऊदी अरब से मिस्र तक फैला, संयुक्त राष्ट्र ने दी चेतावनी

एक प्रकोप जो सूडान और इरिट्रिया से लाल सागर के दोनों ओर सऊदी अरब और मिस्र तक फैल रहा है, संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन ने इस प्रकोप के बारे में चेतावनी दी है। मिस्र और लाल सागर के चारों ओर बड़े पैमाने पर टिड्डे (grasshopper)उतरने वाले हैं. वर्तमान प्रकोप सूडान और इरिट्रिया के आसपास लंबे समय तक बारिश के कारण टिड्डों ने प्रजनन में काफी योगदान दिया है और इसकी संख्या में काफी वृद्धि हुई है. संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) ने बताया है कि टिड्डों के अत्यधिक चलंत झुंड ने जनवरी के मध्य में सऊदी अरब की सीमा पार कर ली, जिसके एक सप्ताह के बाद और अधिक संख्या बढ़ गई है। अभी हाल ही में मक्का में भी टिड्डों के एक झुंड ने पवित्र मक्का शहर में भी हमला किया था.

अरब प्रायद्वीप के इंटीरियर”, संयुक्त राष्ट्र के टिड्ड विशेषज्ञ कीथ क्रेसमैन ने चेतावनी दी है कि “गर्मियों में प्रजनन शुरू होने से पहले टिड्डे की स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए अगले तीन महीने महत्वपूर्ण होंगे। वर्तमान प्रकोप का आगे प्रसार दो प्रमुख कारकों पर निर्भर करता है वो है सूडान, इरिट्रिया, सऊदी अरब और आसपास के देशों के टिड्डों के प्रजनन क्षेत्रों में प्रभावी नियंत्रण और निगरानी के उपाय.

सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं का तो ये भी मानना ​​है कि टिड्डे का प्रकोप बाइबिल की भविष्यवाणी का एक अग्रदूत है:

End time prophecy is unfolding before our very eyes.

— DfendUSA (@UsaDfend) 22 февраля 2019 г.
The 2nd coming?

— Chris Cox (@ultraclassic901) 22 февраля 2019 г.
The apocalypse

— Pete (@PeterK0243) 22 февраля 2019 г.
History repeating itself!!

— Cheeky (@funnymove9) 22 февраля 2019 г.
Plagues are a long part of the End Times story, aren’t they? https://t.co/eIVS9NFk41

— Edith F. de Weyand (@Ediwey) 22 февраля 2019 г.

दिसंबर 2018 से, कीट नियंत्रण विशेषज्ञों ने मिस्र, इरिट्रिया, सऊदी अरब और सूडान में 200,000 एकड़ भूमि पर इन टिड्डों के नियंत्रण का इलाज किया था और जनवरी के अंत में दक्षिणी तट पर कम से कम एक झुंड के उतरने के बाद ईरान में इसी नियंत्रण उपाय वर्तमान में चल रहे हैं। वयस्क टिड्डों के झुंड हवा के साथ एक दिन में 93 मील (150 किलोमीटर) तक उड़ान भर सकते हैं और प्रति दिन ताजे भोजन की तलाश में मोटे तौर पर अपने वजन का उपभोग कर सकते हैं, जिससे फसलों और खाद्य सुरक्षा के लिए बहुत खतरा होता है।

क्रिसमैन के अनुसार, 2003 और 2005 के बीच आखिरी बड़े टिड्डे का पता चला था जब अफ्रीका में 12 मिलियन हेक्टेयर से अधिक के क्षेत्र में इसका उपचार किया गया था, जिसमें खाद्य सहायता सहित लगभग 750 मिलियन डॉलर की लागत आई थी। संयुक्त राष्ट्र एफएओ को अगले कुछ दिनों में जॉर्डन में एक बैठक आयोजित करने की उम्मीद है ताकि प्रभावित देशों के साथ नियंत्रण उपायों को और तेज किया जा सके।

Top Stories