Friday , June 22 2018

टीम अन्ना का हज़ारे के बगै़र इजलास, लायेहा-ए-अमल पर ग़ौर

ग़ाज़ीयाबाद, १० जनवरी (पी टी आई) ऐसी उलझन कि दरमयान कि अपनी तहरीक को किस तरह आगे बढ़ाया जाए, टीम अन्ना की कोर कमेटी का आज यहां अलील अन्ना हज़ारे के बगै़र इजलास मुनाक़िद हुआ ताकि अपने मुस्तक़बिल की हिक्मत-ए-अमली का फ़ैसला किया जा सके।

ग़ाज़ीयाबाद, १० जनवरी (पी टी आई) ऐसी उलझन कि दरमयान कि अपनी तहरीक को किस तरह आगे बढ़ाया जाए, टीम अन्ना की कोर कमेटी का आज यहां अलील अन्ना हज़ारे के बगै़र इजलास मुनाक़िद हुआ ताकि अपने मुस्तक़बिल की हिक्मत-ए-अमली का फ़ैसला किया जा सके।

ये इस टीम की पहली मीटिंग है जो गुज़श्ता माह ताक़तवर लोक पाल केलिए हज़ारे की अपने एजीटेशन प्रोग्रामों से दसतबरदारी के बाद मुनाक़िद हुई है। अरविंद केजरीवाल, प्रशांत भूषण, किरण बेदी और दीगर अरकान इस ग़ौर-ओ-ख़ौज़ में शरीक हुए जिस के दौरान उन्हों ने मुस्तक़बिल के लाइह-ए-अमल पर तबादला-ए-ख़्याल किया, जिस में पाँच रियास्तों केलिए इंतिख़ाबात के दौरान मुहिम का तरीक़ा-ए-कार शामिल है।

हज़ारे इस मीटिंग में शरीक नहीं हुए क्योंकि वो अलील हैं। डाक्टरों ने उन्हें उन की सेहत की मौजूदा हालत के सबब कम अज़ कम एक माह कोई भी दौरा ना करने का मश्वरा दिया है। दिसम्बर के आख़िरी हफ़्ते में मुंबई और दिल्ली में हज़ारे के एजीतेशन पर फीके अवामी रद्द-ए-अमल और इस के मुख़ालिफ़ कांग्रेस नारा पर कांग्रेस की तरफ़ से तानाज़नी का ऐसा ज़ाहिर होता है कि टीम अन्ना के ज़हन पर भारी असर हुआ है।

टीम अन्ना मेम्बर्स ने कहा कि इस मीटिंग का मक़सद दीगर पाँच रियास्तों में मुहिम के तरीक़ा-ए-कार पर तबादला-ए-ख़्याल के साथ साथ अवाम से हासिल होने वाली तजावीज़ का जायज़ा लेना रहा कि इस तहरीक को किस तरह आगे बढ़ाया जाए।

ये मीटिंग का पस-ए-मंज़र केजरीवाल का तहरीर करदा एक आर्टीकल भी है जिस ने ये तास्सुर दिया कि टीम अन्ना बज़ाहिर उलझन में मुबतला है कि ताक़तवर लोक पाल के लिए जद्द-ओ-जहद को किस तरह आगे बढ़ाया जाए, और कहा कि तहरीक नाज़ुक मोड़ पर है और इस मरहले पर कोई ग़लत फ़ैसला इस के लिए तबाहकुन साबित हो सकता है।

उन्होंने अपने तास्सुरात पेश करने के बाद अवाम से इस मुहिम को आगे बढ़ाने के लिए तजावीज़ तलब किए हैं। टीम अन्ना अरकान ने कहा कि वो अपने मुख़ालिफ़ कांग्रेस मौक़िफ़ पर भी जो क़ब्लअज़ीं टीम की मुहिम्मात के दौरान पुरशोर अंदाज़ में ज़ाहिर किया गया, ग़ौर करेंगे क्योंकि टीम पर मुवाफ़िक़ बी जे पी होने का इल्ज़ाम आइद हो रहा है।

साबिक़ बी एस पी लीडर बाबू सिंह कुशवाहा की जिन पर क्र्प्शन का इल्ज़ाम है, बी जे पी में शमूलीयत ने टीम अन्ना को मुश्किल में डाल दिया क्योंकि कांग्रेस ने उन के ख़िलाफ़ लफ़्ज़ी हमले तेज़ कर दिए हैं।

TOPPOPULARRECENT