टी आर ऐस कारकुनों को चुनाव के लिए तैय्यार रहने का मश्वरा

टी आर ऐस कारकुनों को चुनाव के लिए तैय्यार रहने का मश्वरा
रियासत में बदलते सियासी हालात पर सियासी जमातों ने अपनी अपनी हिक्मत-ए-अमली की तैय्यारी का आग़ाज़ कर दिया है । तेलंगाना राष़्ट्रा समीती के सरबराह के चंद्रा शेखर राव ने पार्टी के अहम क़ाइदीन से रियासत की मौजूदा सूरत-ए-हाल और पार्टी क

रियासत में बदलते सियासी हालात पर सियासी जमातों ने अपनी अपनी हिक्मत-ए-अमली की तैय्यारी का आग़ाज़ कर दिया है । तेलंगाना राष़्ट्रा समीती के सरबराह के चंद्रा शेखर राव ने पार्टी के अहम क़ाइदीन से रियासत की मौजूदा सूरत-ए-हाल और पार्टी की हिक्मत-ए-अमली पर तबादला-ए-ख़्याल किया ।

उन्हों ने क़ाइदीन से कहा कि वो लोक सभा और असेंबली के मध्यवधि(मध्यवधि)इंतिख़ाबात (चुनाव)के लिए तैय्यार रहे । दिल्ली और आंधरा प्रदेश के जो सियासी हालात हैं इस से लोक सभा और असेंबली के मध्यवधि इंतिख़ाबात (चुनाव)के इमकानात दिखाई दे रहे हैं ।

उन्हों ने क़ाइदीन से कहा कि इंतिख़ाबात (चुनाव)में किसी पार्टी से मफ़ाहमत नहीं की जाएगी क्योंकि तेलंगाना में सूरत-ए-हाल टी आर एसके हक़ में है अगर मध्यवधि इंतिख़ाबात (चुनाव)होते हैं तो पार्टी को असेंबली कम से कम 70 ता 80 नशिस्तों पर कामयाबी हासिल होगी ।

उन्हों ने क़ाइदीन को मश्वरा दिया कि वो मजलिस की जानिब से कांग्रेस की ताईद से दसतबरदारी से पैदा सूरत-ए-हाल पर गहिरी नज़र रखें । उन्हों ने वाज़ेह किया कि अगर कांग्रेस हुकूमत अक्सरीयत से महरूमी के सबब गिरती है तो टी आर ऐस उसे बचाने की कोई कोशिश नहीं करेगी ।

असेंबली में फ़िलवक़्तटी आर ऐस अरकान की तादाद 17 हैं जबकि उसे एक आज़ाद रुकन असेंबली ऐस सत्य नारायना )की ताईद हासिल है । तेलगूदेशम से बग़ावत करने वाले रुकन असेंबली के हरीशवर रेड्डी भी टी आर एस में शमूलीयत का ऐलान करचुके हैं इस तरह टी आर ऐस अरकान की तादाद बढ़कर 19 होजाएगी ।

के सी आर ने क़ाइदीन को बताया कि तेलगूदेशम और कांग्रेस के कई अरकान असेंबली उन से रब्त में हैं और वो पार्टी में शमूलीयत के ख़ाहां हैं । उन की शमूलीयत के बारे में मुनासिब-ए-वक़्त पर फ़ैसला किया जाएगा ।

उन्हों ने कहा कि 2014 में इंतिख़ाबात (चुनाव)की सूरत में पार्टी का निशाना 110 नशिस्तों की कामयाबी होगा । बताया जाता है कि इजलास में बाअज़ क़ाइदीन ने कहा कि मजलिस और कांग्रेस का ये तनाज़ा इन्फ़िरादी मुआमला है और बहुत जल्द आपस में उस की यकसूई हो जाएगी ।

लिहाज़ा टी आर एसको इस झगड़े में नहीं पड़ना चाहीए । क़ाइदीन का एहसास था कि मजलिस और जगन ने मिली भगत के ज़रीया ये सूरत-ए-हाल पैदा की है ।

Top Stories