Tuesday , September 25 2018

टी वी की वजह से घरों में फ़ितना , आपसी झगड़ों में इज़ाफ़ा

टी वी सीरीयलों और दीगर प्रोग्राम्स को लोग इस क़दर शौक़ से देख रहे हैं कि वो लम्हा भर के लिये भी टी वी से अलहदा रहना नहीं चाहते । टेली वीज़न पर ऐसे फ़हश सीरियल्स पेश किए जा रहे हैं जिसे एक ग़ैरत मंद मिली हमीयत और ख़ौफ़ ख़ुदा रखने वाला

टी वी सीरीयलों और दीगर प्रोग्राम्स को लोग इस क़दर शौक़ से देख रहे हैं कि वो लम्हा भर के लिये भी टी वी से अलहदा रहना नहीं चाहते । टेली वीज़न पर ऐसे फ़हश सीरियल्स पेश किए जा रहे हैं जिसे एक ग़ैरत मंद मिली हमीयत और ख़ौफ़ ख़ुदा रखने वाला शख़्स देख कर शर्म से ज़रूर पानी पानी हो जाएगा

लेकिन अफ़सोस के अब तो इस तरह के बेहूदा और फ़हश सीरीयलों को सारे घर के अफ़राद ऐसे बैठ कर और इस क़दर दिलचस्पी से देखते हैं कि दरमियान में किसी किस्म की आवाज़ या रुकावट को बर्दाश्त नहीं कर सकते । अब तो टी वी घरों में फ़ितना पैदा करने का बाइस बन गया है ।

इस टी वी के बाइस बहन बहन की दुश्मन होगई है । भाई भाई के साथ मारपीट करने तय्यार होगए हैं । यहां तक कि अपनी पसंद के टी वी सीरीयलों को लेकर नंद भावज के दरमियान देवरानी और जेठानी के माबेन लड़ाई झगड़े की सूरत-ए-हाल पैदा होरही है । टेली वीज़न ने ख़ानदानों को बिखेरने और अरकान ख़ानदान के दरमियान नफ़रत की दीवारें खड़ी करदीं हैं ।

हाल ही में हाफ़िज़ बाबा नगर में टी वी सीरियल्स देखने के मसला पर इबरत अंगेज़ वाक़िया पेश आया जहां एक नौजवान लड़की ने सिर्फ़ और सिर्फ़ इस लिये फांसी लेकर अपनी ज़िंदगी का ख़ातमा करलिया क्यों कि जो वो टी वी सीरीयल देखने की ख़ाहां थीं छोटी बहन उसे वो सीरीयल देखने का मौक़ा ना देते हुए अपने पसंद का प्रोग्राम देख रही थी ।

क़ारईन ! इस इबरतनाक वाक़िया से अंदाज़ा लगा सकते हैं कि हमारे घरों में टी वी ने किस तरह तबाही मचा रखी है ।अख़लाक़ इक़दार बुरी तरह पामाल होचुके हैं । छोटे बच्चे भी टी वी से चिपक कर बैठने के ख़ाहां नज़र आते हैं जब कि टी वी रीमोट के लिये भाई बहनों के दरमियान लड़ाई झगड़े आम होगए हैं

हद तो ये है कि कई घरों में टी वी सीरीयलों और प्रोग्राम्स की पसंद ना पसंद के मसला पर एक दूसरे से उलझ रहे हैं । और सारे के सारे बेहयाई-ओ-बेशरमी के तबाहकुन सैलाब में ग़र्क़ होरहे हैं ।

इसे में ज़रूरत इस बात की है कि माँ बाप टी वी पर प्रोग्राम्स देखने के ख़ाहां हो तो दीनी प्रोग्राम्स , इलमी प्रोग्राम्स अपने बच्चों को दिखाएं वर्ना हमारी औलाद और हम ख़ुद दीन के रहेंगे ना दुनिया के इस लिये ख़ुद को और अपनी औलाद को गुनाहों के शोला टी वी से महफ़ूज़ रखना ज़रूरी है ।।

TOPPOPULARRECENT