Wednesday , July 18 2018

ट्रम्प की मुश्किलें बढ़ीं, यौन उत्पीड़न मामले में अदालत ने याचिका को किया स्वीकार

अमेरिका का राष्ट्रपति अपनी निजी गतिविधियों के चलते कानून के दायरे में रहता है. वह कानून से ऊपर नहीं है, ऐसी टिप्पणी के साथ न्यूयॉर्क की अदालत ने ट्रंप के खिलाफ याचिका स्वीकार की.

यौन दुर्व्यवहार का एक पुराना मामला अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को भारी मुश्किल में डाल सकता है. 43 साल की समर जेर्वोस ने ट्रंप पर न चाहते हुए भी सेक्स करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है.

मंगलवार को न्यूयॉर्क की अदालत ने ट्रंप के खिलाफ जेर्वोस के मानहानि के मुकदमे को स्वीकार कर लिया. मैनहटन में स्टेट सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस जेनिफर शेक्टर के इस फैसले के बाद ट्रंप पर यौन दुर्व्यवहार का आरोप लगाने वाली बाकी महिलाओं के लिए भी कानूनी रास्ता साफ हो सकता है.

ट्रंप के वकील की दलील थी कि मौजूदा राष्ट्रपति स्टेट कोर्ट न्यायिक अधिकार क्षेत्र में नहीं आते हैं. जस्टिस शेक्टर ने इस दलील को खारिज कर दिया. जज ने अमेरिका के टॉप सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कहा कि पहले भी पाउला जोन्स को राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के खिलाफ यौन दुर्व्यवहार का केस लड़ने की अनुमति दी गई.

जस्टिस शेक्टर ने फैसले में लिखा, “कानून से ऊपर कोई नहीं है. यह पहले ही तय हो चुका है कि अमेरिका के राष्ट्रपति को भी कोई छूट नहीं है और वह पूर्ण रूप से निजी कामों के लिए कानून के दायरे में है.”

समर जेर्वोस ने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के दौरान ट्रंप पर यौन दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था. जेर्वोस के मुताबिक 2007 में उनकी इच्छा की विरुद्ध जाते हुए ट्रंप ने उनके स्तनों को छुआ, उन्हें चूमा और फिर जबरन चिपक गए. तब जेर्वोस ट्रंप के रियलिटी टीवी शो ‘द एपरेंटिस’ की सलाहकार थीं.

ट्रंप ने सार्वजनिक रूप से जेर्वोस की आलोचना की और उन्हें झूठा करार दिया. ट्रंप ने उल्टा आरोप लगाते हुए कहा कि जेर्वोस चुनावों को प्रभावित करने के लिए मनगढ़ंत आरोप लगा रही हैं. इसी के खिलाफ जेर्वोस ने ट्रंप के खिलाफ मानहानि की याचिका दायर की है.

ट्रंप के सेक्स स्कैंडलों में और भी कई मामले सामने आ रहे हैं. अब एक और पॉर्न स्टार स्टॉर्मी डैनियल्स ने दावा किया है कि उन्होंने 2006 में ट्रंप के साथ रात बिताई. पॉर्न स्टार के मुताबिक ट्रंप ने उनके साथ असुरक्षित सेक्स किया.

ट्रंप ने स्टॉर्मी डैनियल्स के खिलाफ मुकदमा किया है. राष्ट्रपति के मुताबिक पॉर्न स्टार के साथ करार में यह शर्त थी कि इस मामले को सार्वजनिक नहीं किया जाएगा.

अमेरिकी राष्ट्रपति कार्यालय और ट्रंप के वकील माइकल कोहेन ने डैनियल्स के साथ अफेयर की खबरों को खारिज किया है. हालांकि वकील ने यह जरूर स्वीकार किया है कि ट्रंप ने डैनियल्स को गोपनीयता करार के तहत 1,31,000 डॉलर दिए. अब इसी गोपनीयता करार को तोड़ने के आरोप में डैनियल्स पर मानहानि का मुकदमा दायर किया गया है.

मुकदमे के बाद डैनियल्स के वकील ने पॉर्न स्टार की लाइ डिटेक्टर वाली तस्वीर ट्वीटर पर पोस्ट की और दावा किया कि उनकी मुवक्किल ने 2011 में यह टेस्ट पास किया है. हालांकि भारत की ही तरह अमेरिकी अदालत में भी लाई डिटेक्टर टेस्ट को कानूनी सबूत नहीं माना जाता है. पॉर्न स्टार डैनियल्स ट्रंप को चिढ़ाते हुए एक ट्वीट किया और लिखा, “तकनीकी रूप मैं 12 साल पहले पोटस (अमेरिकी राष्ट्रपति) के साथ नहीं सोयी. नींद तो थी ही नहीं (हेहे).”

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप पर यह भी आरोप हैं कि उन्होंने 2016 का राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए कथित सेक्स अफेयर पैसा देकर छुपाए. महिलाओं की पत्रिका प्लेमेट की पूर्व स्टार कारेन मैकडॉनल्ड ने भी ट्रंप के साथ 10 महीने तक अफेयर का दावा किया है. मैकडॉनल्ड को गोपनीयता करार से बाहर आने के लिए एक जांचकर्ता ने डेढ़ लाख डॉलर दिए.

ट्रंप चाहते हैं कि ऐसे मामले मीडिया में न उछलें. लेकिन एक के बाद एक नए स्कैंडल सामने आ रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव अभियान में रूस की मदद लेने का आरोप ट्रंप झेल रहे हैं.

अब सेक्स स्कैंडल भी बढ़ते जा रहे हैं. कारोबारी और जलवायु परिवर्तन की नीतियों के चलते ट्रंप पहले ही अलग थलग पड़ रहे हैं. उनकी अपनी रिपब्लिकन पार्टी के नेता अब कहने लगे हैं कि अगर रूसी दखलंदाजी की जांच ट्रंप ने बंद कराई तो उनकी राजनीतिक पारी समय से पहले खत्म हो सकती है.

TOPPOPULARRECENT