Monday , December 11 2017

ट्रैफिकिंग: बाबा वामदेव गिरोह का कारनामा, दिल्ली में लड़कियों को बेचने की कोशिश

दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम ने वहां के सकरपुर इलाके में छापेमारी कर इंसानी तस्करों के चंगुल से झारखंड की तीन लड़कियों को आज़ाद कराया है।

दिल्ली क्राइम ब्रांच की टीम ने वहां के सकरपुर इलाके में छापेमारी कर इंसानी तस्करों के चंगुल से झारखंड की तीन लड़कियों को आज़ाद कराया है।

जिन लड़कियों को आज़ाद कराया गया, वे गुमला, लातेहार और गढ़वा की हैं। बरामद लड़कियों में दो की उम्र 18 साल है, जबकि एक 15 साल की है। जिस प्लेसमेंट एजेंसी (केडी इंटरप्राइजेज) के जरिये तीनों को बेचा जा रहा था, पुलिस ने उसे सील कर दिया है। वहीं पुलिस ने एजेंसी के ऑपरेटर कपिलदेव चौधरी को गिरफ्तार कर लिया है। कपिलदेव चौधरी लातेहार थाना में दर्ज कांड नंबर 03/13 में भी मुल्ज़िम है।

इसी केस में कुछ दिन पहले बाबा वामदेव को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। दिल्ली क्राइम ब्रांच को कपिलदेव चौधरी ने बताया है कि बाबा वामदेव की गिरफ्तारी के बाद वह गिरोह का सरगना बन गया था। उसी के कियादत में इंसानी तस्करी का काम किया जा रहा था। लातेहार पुलिस को कपिलेदव की तलाश जिस मामले में है, वह मामला भी इंसानी तस्करी से जुड़ा है। पुलिस को लड़कियों ने बताया कि कपिलदेव की प्लेसमेंट एजेंसी में ही उसे रखा गया था। दोनों ने जहां काम किया था, वहां से वही पैसे लेता था।

50-50 हजार में बेच रहा था लड़कियों को

दिल्ली पुलिस को किसी ने इत्तिला दी थी कि केडी इंटरप्राइजेज के जरिये लड़कियों को बेचने का काम हो रहा है। गुजिशता पांच सितंबर को भी लड़कियों को बेचने की कोशिश की गयी थी। लड़कियों की कीमत 50-50 हजार रुपये रखे गये थे। इस इत्तिला पर पुलिस ने प्लेसमेंट एजेंसी के दफ्तर पर छापेमारी की और लड़कियों को बरामद किया। अदालत के हुक्म पर लड़कियों को प्रोबेशन होम भेजा जायेगा।

TOPPOPULARRECENT