Tuesday , December 12 2017

ट्विटर पर उड़े बाबा रामदेव, यूजर्स ने बताया तालिबानी

भारत माता की जय के मुद्दे पर सर काटें वाला ब्यान देकर बाबा रामदेव ट्वीटर यूजर्स के निशाने पर आ गए हैं. यूजर्स ने बाबा को तालिबानी करार दिया . सर काटने का मुत्नाज़ा बयान देकर स्वामी रामदेव घिर गए हैं. बयान के मीडिया में आने के बाद ट्विटर पर #TalibaniRamdev ट्रेंड करने लगा . ट्विटर पर लोगों ने बाबा रामदेव की जिहादी जॉन के तौर में मॉफड फोटो शेयर की.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बाबा की कई सारी फनी फोटोज शेयर कर उनके साथ ही पतंजलि ब्रांड का भी मजाक उड़ाया गया। एक फोटो तो बगदादी के साथ भी शेयर की गई थी। इन फोटोज में लोगों ने उनका मुकाबला तालिबान और आईएस के आतंकियों से की। इससे पहले बाबा अक्सर सोशल मीडिया यूजर्स के निशाने पर आते रहे हैं।
अभी कुछ दिन पहले ही पतंजलि ब्रांड की फनी फोटोज ट्विटर, इंस्टाग्राम और वाट्सऐप पर कहा गया कि विजय माल्या के भागने के बाद अब रामदेव अपने ब्रांड की बियर के साथ एयरलाइंस भी लॉन्च करेंगे।
ramdev
ट्विटर पर इस तरह आए कमेंट…

@shishirkunder: बाबा रामदेव तालिबानियों की तरह लोगों के सिर काटने की बात कहता है, उसे पद्मभूषण अवॉर्ड क्यों दिया गया?
@Vinodmehta: बाबा रामदेव और फडणवीस कॉम्बो पैक में आए हैं। ये ढोंगी बाबा हैं।
@sanjaynirupam: बाबा रामदेव का स्टेटमेंट गुंडे की तरह है। ऐसे बाबाओं को अरेस्ट कर सलाखों के पीछे डाल देना चाहिए।
@Bhola: रामदेव उन लोगों का सिर तुम्हें काटना चाहिए, जिन्होंने 15 लाख रुपए खाते में डालने के लिए कहा था।

साबिक होम रियासती मिनिस्टर सुभाष बत्रा ने स्वामी रामदेव के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग को लेकर एसपी दफ्तर में शिकायत दी है. हालाँकि अभी तक रामदेव के खिलाफ केस दर्ज नहीं किया गया है. जिला और पुलिस इंतेजामिया के अफसर आगे की कार्रवाई को लेकर बातचीत कर रहे हैं. वजीर ने एसपी की गैर मौजूदगी में उनके नाम शिकायत दी है.
उन्होंने शिकायत में कहा की स्वामी रामदेव के सर काटने के तालिबानी बयान को नेशनल और इन्तेर्नेशन तिव्बी चैनलों पर दिखाया गया. यह उस आदमी की करतूत है जिसे रियासत की बीजेपी सरकार ने रियासत का ब्रांड एसेम्बडर बना रखा है.

रामदेव ने कहा था की अगर कानून नहीं होता तो एक नहीं, बल्कि लाखों लोगों के सर काट देते जो भारत माता की जय नहीं बोलते और भारत माता की इज्ज़त नहीं करते. इतना ही नहीं दारुल उलूम देवबंद के भारत माता की जय नहीं बोलने वाले फतवे पर भी स्वामी रामदेव ने रद्दो अमल दी थी.

TOPPOPULARRECENT