Wednesday , December 13 2017

ठिठुरा झारखंड, सर्द हवाओं ने किया परेशान

दारुल हुकूमत में चल रही तेज सर्द हवाओं से लोग ठिठुरने लगे हैं। तीन-चार दिनों तक आसमान में बादल छाये रहने के बाद मौसम साफ होने पर दर्ज़ हरारत अचानक कम हो गया है। एक दिन में करीब छह डिग्री दर्ज़ हरारत गिरा है। मौसम महकमा के मुताबिक एक-दो

दारुल हुकूमत में चल रही तेज सर्द हवाओं से लोग ठिठुरने लगे हैं। तीन-चार दिनों तक आसमान में बादल छाये रहने के बाद मौसम साफ होने पर दर्ज़ हरारत अचानक कम हो गया है। एक दिन में करीब छह डिग्री दर्ज़ हरारत गिरा है। मौसम महकमा के मुताबिक एक-दो दिनों तक तेज हवाएं चलेंगी और कड़ाके की ठंड पड़ेगी।

महकमा मौसमियात से मिली जानकारी के मुताबिक बुध को दारुल हुकूमत की कम अज़ कम दर्जे हरारत 7.7 डिग्री सेसि रिकार्ड किया गया। यह दिल्ली, लुधियाना व पटना जैसे शहरों के कम अज़ कम दर्जे हरारत से कम है। दारुल हुकूमत के लिए भी यह आम से दो डिग्री सेसि नीचे है। आम तौर पर दिसंबर माह के तीसरे हफ्ताह में कम अज़ कम दर्जे हरारत 9 से 10 डिग्री सेसि के दरमियान होना चाहिए। रांची में बुध को ज़्यादा से ज़्यादा दर्जे हरारत भी आम से दो डिग्री सेसि नीचे (21.2 डिग्री सेसि) रिकार्ड किया गया।

दारुल हुकूमत के मौसम में तेजी से बदलाव हुआ है। मंगल से ही सर्द हवाएं चल रही हैं। इसके साथ ही कनकनी भी बढ़ गयी है। शाम होते ही सड़कें खाली हो जा रही हैं। मौसम में आये बदलाव से जईफ के साथ-साथ बच्चों को खुसुसि एहतियात बरतने की जरूरत है। सर्दी में मौसमी बीमारी से बचाव के लिए पहले खुद को ठंड से बचाना जरूरी है। हल्की सी लापरवाही से आपको परेशानी हो सकती है। मौसमी बीमारी जैसे बुखार, सर्दी-खांसी, चमड़े की बीमारी के अलावा स्ट्रॉक की चपेट में भी आ सकते है।

महकमा मौसमियात ने अगले दो-तीन दिनों तक ठंड की तौसिह असर रहने का गोई जताया है। इसके मुताबिक जुमेरात से सनीचर तक कम अज़ कम दर्जे हरारत सात से आठ डिग्री सेसि के आसपास होने की उम्मीद है। 21 दिसंबर को आसमान में बादल छाने की उम्मीद है। बादल की वजह से दर्जे हरारत चढ़ सकता है। इसके बाद आसमान खुलते ही फिर दर्जे हरारत गिरने लगेगा।

TOPPOPULARRECENT