Monday , November 20 2017
Home / India / डियर विवाद : शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने मांगी स्मृति ईरानी से माफी

डियर विवाद : शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने मांगी स्मृति ईरानी से माफी

नयी दिल्ली : ट्वीटर पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी को डियर कहकर संबोधित करने वाले बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने माफी मांग ली है.उन्होंने कहा है कि मैं ट्वीट में बेहद सम्मानजनक तरीके से पूछा था डियर स्मृति जी नई शिक्षा नीति कब आ रही है. उन्होंने कहा कि पता नहीं उन्हें डियर में क्या अपमानजनक लगा. लेकिन मैं फिर भी स्मृति जी से माफी मांगता हूं, अगर मैंने उनकी भावना को किसी तरह आहत की हो.

माफी मांगने से पूर्व ट्वीटर पर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी और बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी आपस में भिड़ गये. ट्विटर पर ‘डियर’ शब्द के इस्तेमाल को लेकर दाेनों नेताओं के बीच तीखी बहस हुई. दरअसल शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने ट्विटर पर स्मृति ईरानी से सवाल किया था कि नयी एजुकेशन पॉलिसी कब से लागू होगी. अशोक चौधरी ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘डियर स्मृति ईरानी जी, हमें नयी एजुकेशन पॉलिसी कब मिलेगी? आपके कैलेंडर में साल 2015 कब खत्म होगा?’

स्मृति ईरानी ने अशोक चौधरी के इस ट्वीट पर सवाल उठाया और कहा, ‘महिलाओं को ‘डियर’ कहकर कब से संबोधित करने लगे अशोक जी.’ इस पर अशोक चौधरी ने जवाब देते हुए कहा कि उन्होंने अपमान नहीं सम्मान की तौर पर इस शब्द का इस्तेमाल किया और प्रोफशनल बातचीत की शुरुआत ‘डियर’ शब्द से ही होती है. स्मृति ने इसपर कहा कि आपकी हर बात ‘आदरणीय’ से शुरू होती है.

स्मृति ईरानी ने एजुकेशन पॉलिसी पर पलटवार करते हुए कहा कि बिहार एकमात्र ऐसा राज्य है जिसने जमीनी स्तर पर बातचीत नहीं की है. अशाेक चौधरी ने आगे कहा, स्मृतिजी कभी मुद्दे का जवाब दीजिए, इधर-उधर मत घुमाइए. इस सवाल पर स्मृति ने कहा कि एजुकेशन पॉलिसी पर राज्यों के सुझाव अभी नहीं मिले हैं और आपने भी वन टू वन मीटिंग में मुझे कोई सुझाव नहीं दिया. अशोक चौधरी ने इसपर कहा कि मैं आपसे निवेदन करता हूं कि हमारी मीटिंग को सार्वजनिक कर दें. दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा.

इसपर स्मृति ने कहा कि मुद्दा एजुकेशन पॉलिसी का था जो आपने उठाया अब ये बताएं कि पॉलिसी पर राज्य के सुझाव कब तक भेजेंगे. उन्होंने बातचीत को सार्वजनिक करने की बात करते हुए निवेदन भी कर डाला कि वह बिहार में अध्यापकों की दो लाख भर्तियां करें, केंद्रीय विद्यालय के लिए जमीन आवंटित कराएं.

TOPPOPULARRECENT