Monday , December 11 2017

डीज़ल कीमतों में माहाना इज़ाफ़ा का सिलसिला जारी रहेगा

वज़ारत तेल के एक ओहदेदार ने आज बताया कि नई हुकूमत चूँकि सबसिडी की रक़ूमात में कमी करने के ताल्लुक़ से दिलचस्पी रखती है ऐसे में डीज़ल की कीमत में हर माह होने वाला 40 ता 50 पैसे फ़ी लीटर का जो इज़ाफ़ा है वो जारी रहेगा।

वज़ारत तेल के एक ओहदेदार ने आज बताया कि नई हुकूमत चूँकि सबसिडी की रक़ूमात में कमी करने के ताल्लुक़ से दिलचस्पी रखती है ऐसे में डीज़ल की कीमत में हर माह होने वाला 40 ता 50 पैसे फ़ी लीटर का जो इज़ाफ़ा है वो जारी रहेगा।

साबिक़ में यू पी ए हुकूमत ने जनवरी 2013 में फैसला किया था कि डीज़ल की कीमतों में हर माह मामूली इज़ाफ़ा करते हुए जो नुक़्सान हो रहा है उसकी पुर्ती की जाये। हुकूमत ने कहा था कि तेल की पैदावार और जो रीटेल कीमत है इसके माबेन तरीका को ख़त्म किया जाना चाहिए।

एक ओहदेदार ने बताया कि इस बात की कोई वजह नहीं है कि डीज़ल कीमत में हर माह होने वाले इज़ाफ़ा के सिलसिला को रोक दिया जाये। हुकूमत की जानिब से उस वक़्त तक इज़ाफ़ा का सिलसिला जारी रखा जाएगा जब तक डीज़ल की फ़रोख्त पर जो नुक़्सानात हो रहे हैं उन्हें ख़त्म नहीं किया जाता। डीज़ल की कीमत पर आइन्दा नज़र-ए-सानी हफ़्ते को होने वाली है।

सरकारी तेल कंपनियों इंडियन ऑयल कारपोरेशन भारत पैट्रोलियम कारपोरेशन और हिंदुस्तान पैट्रोलियम कारपोरेशन का ख्याल‌ है कि उन्हें डीज़ल की फ़रोख्त पर यौमिया 4.41 करोड़ रुपये के नुक़्सानात का सामना है। इस नुक़्सान की पुर्ती हुकूमत की सबसिडी से पूरी की जाती है। मार्च के बाद से इस नुक़्सान में कमी होनी शुरू होगई है और अब फ़ी लीटर 8.37 लीटर का नुक़्सान हो रहा है।

तेल कंपनियों ने माह अप्रेल में माहाना इज़ाफ़ा से गुरेज़ किया था ताहम लोक सभा इंतिख़ाबात ख़त्म होते ही डीज़ल की कीमत में फ़ी लीटर 1.09 रुपये का इज़ाफ़ा किया गया था। इसके इलावा डीज़ल की फ़रोख्त पर नुक़्सानात इस लिए भी कम हो रहे हैं क्यों कि डालर के मुक़ाबला में रुपये की क़दर में बेहतरी आई है।

मर्कज़ में बी जे पी ज़ेर क़ियादत एन डी ए हुकूमत के क़ियाम के आसार दिखाई देने के बाद से ही रुपये की क़दर में बेहतरी का सिलसिला शुरू होगया था। ओहदेदारों ने कहा कि अगर रुपये की शरह डालर के मुक़ाबले में 56 रुपये होगई तो फिर डीज़ल पर नुक़्सानात बिलकुल ख़त्म हूजाएंगे और इस पर डीज़ल की कीमतों का मसला मर्कज़ के कंट्रोल से आज़ाद होजाएगा।

आज सुबह रुपये की क़दर डालर के मुक़ाबले में फ़ी डालर 58.86 रुपये रही है। ओहदेदारों के मुताबिक‌ माह मई के शुरु निस्फ़ में रुपये की क़दर घट गई थी जिस के बाद नुक़्सानात में इज़ाफ़ा होगया था। ओहदेदारों के मुताबिक‌ माह मई के शुरु में नुक़्सानात में इज़ाफ़ा हुआ था ताहम बाद में रुपये की क़दर में मजबूती के नतीजा में ये नुक़्सान कम होने लगे हैं।

TOPPOPULARRECENT