Friday , December 15 2017

डी नोटीफाई वक़्फ़ जायदादों का रिकार्ड पेश किया जाये

नई दिल्ली: केंद्रीय सूचना आयोग ने केंद्र सरकार को निर्देश दिया है कि वह यूपीए सरकार की ओर से 123 वक़्फ़  जायदादों  को डी नोटीफाई  करने से संबंधित सभी रिकॉर्ड पेश किया जिसके नतीजे में यही जायदादें दिल्ली वक़्फ़  बोर्ड को स्थानांतरित की गई हैं। सूचना आयुक्त आजाद ने केंद्रीय मंत्रालय शहरी विकास के इस तर्क को खारिज कर दिया कि जायदादों  के हस्तांतरण का मुद्दा चूंकि नीति समस्या है और यह विचार भी है और जैसा कि दिल्ली हाईकोर्ट ने आदेश जारी किए थे। सूचना आयुक्त ने अपने आदेश में कहा कि मंत्रिमंडल (कैबिनेट) की ओर से किए जाने वाले हर फैसले से पहले परामर्श और चर्चा है।

इसके बाद किया जाने वाला फैसला जो किसी पूर्व फैसले को बदला जाए या परिवर्तन की जाए वह भी एक परामर्श का सिलसिला होता है और ऐसे में यह कहना कि एक ऐसा मुद्दा जो सिएटल है उसे केवल लंबित होने के कारण गैर सिएटल करार देना स्वीकार्य नहीं है। कार्यकर्ता सुभाष अग्रवाल की याचिका की सुनवाई करते हुए सूचना आयुक्त ने कहा कि मंत्रिमंडल की ओर से जब भी कोई फैसला किया जाता है यह समस्या समाप्त हो जाता है और उसके बाद पिछले फैसले पर पुनर्विचार करने से प्रतिरक्षा का लाभ प्राप्त नहीं किया जा सकता जैसा कि आरटीआई अधिनियम में स्पष्ट है।

उन्होंने कहा कि प्रतिरक्षा की एक ही स्थिति हो सकती है और वह यह कि किसी भी पिछले फैसले में अगर पुनर्विचार हो और अब तक कोई फैसला नहीं हुआ है। ऐसे में मंत्रालय शहरी विकास को उनके रिकॉर्ड की पेशकश से कोई अपवाद नहीं दिया जा सकता। सूचना आयुक्त ने कहा कि सरकार का यह दावा कि सूचनाओं को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता क्योंकि यह सूचना कैबिनेट के फैसले से मतलक हैं और इस पर दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई हो रही है उचित नहीं है। सूचना आयुक्त ने कहा कि मौजूदा स्थिति में सरकार दावा स्वीकार नहीं किया जा सकता। जिन 123 जायदादों  को इस समस्या है उनमें लगभग 60 भूमि एवं विकास कार्यालय के स्वामित्व में हैं जो मंत्रालय शहरी विकास के तहत है जबकि दूसरी जायदादें दिल्ली विकास प्राधिकरण के अधीन हैं।

TOPPOPULARRECENT