Sunday , December 17 2017

डॉ भूलकर के क़त्ल में मुलव्विस होने की दाएं बाज़ू की हिन्दु इंतेहापसंद तंज़ीम सनातन संस्था की तरदीद

मुंबई 22 अगसट (सियासत डाट काम) हिन्दु इंतेहापसंद दाएं बाज़ू की तंज़ीम सनातन संस्था जिस के समाजी कारकुन नरेंद्र डॉ भूलकर के साथ शदीद इख़तेलाफ़ात थे, औहाम परस्ती के दुश्मन समाजी कारकुन के क़त्ल से दूरी इख़तियार करने की कोशिश की। तंज़ीम के तर्जुमान अभय‌ वृत्तिक ने एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि हमें डॉ भूलकर के क़त्ल पर सदमा पहुंचा है। हमारा इस हलाकत से लेना देना नहीं है।

डॉ भूलकर को 2 नामालूम हमला आवरों ने उस वक़्त गोली मार कर हलाक कर दिया जबकि वो पुणे में सुबह की चहलक़दमी के लिए घर से बाहर निकले थे। सनातन संस्था ने कहा कि डॉ भूलकर ने काबुल-ए-सिताइश काम किया है। हमारे उन से नज़रियाती इख़तिलाफ़ात थे लेकिन शख़्सी या इन्फ़िरादी तौर पर उन से कोई दुश्मनी नहीं थी।

डॉ भूलकर हमारे इस अक़ीदे के मुख़ालिफ़ थे कि ख़ुदा सबका है और सिर्फ़ उसकी ताक़त ही सब से बालातर है। अख़बारी इत्तिलाआत पर रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए वृत्तिक ने कहा कि हम ने ये कभी नहीं कहा कि हम गांधी जी के साथ गोडसे ने जो कुछ किया है इसका इआदा डॉ भूलकर के साथ करेंगे।

उन्होंने ज़राए इबलाग़ और अवाम से अपील की कि सनातन संस्था को क़ुर्बानी का बकरा ना बनाईं। कल कोई और आकर हमें फंसाने के लिए बम नसब करेगा। उन्होंने कहा कि हमारी तंज़ीम रुहानी शोबे में सरगर्म है। डॉ भूलकर के साथ हमारी नज़रियाती जद्द-ओ-जहद थी, उनसे कोई शख़्सी दुश्मनी नहीं थी। सनातन संस्था के तर्जुमान एक प्रेस कान्फ्रेंस में शिरकत कररहे थे। उन्होंने इल्ज़ाम आइद किया कि डॉ भूलकर की तंज़ीम इंदिरा श्रद्धा निर्मूलन समीती को बैरूनी ममालिक से चंदे हासिल होरहे थे।

TOPPOPULARRECENT