Friday , September 21 2018

तमसीली मुशायरा ग़ज़ल का सफ़र की कामयाब पेशकश‌

हैदराबाद । ०६ मई (रास्त) हकूमत-ए-हिन्द की जानिब से हैदराबाद को बिस्ट हैरीटेज ऐवार्ड से नवाज़ा गया। इस ख़ुशी और मुसर्रत में महिकमा टोरा ज़म ने हैरीटेज वीक आफ़हैदराबाद मनाया और इस सिलसिला की एक कड़ी ऐवान फ़नकार हैदराबाद की जानिब से

हैदराबाद । ०६ मई (रास्त) हकूमत-ए-हिन्द की जानिब से हैदराबाद को बिस्ट हैरीटेज ऐवार्ड से नवाज़ा गया। इस ख़ुशी और मुसर्रत में महिकमा टोरा ज़म ने हैरीटेज वीक आफ़हैदराबाद मनाया और इस सिलसिला की एक कड़ी ऐवान फ़नकार हैदराबाद की जानिब से राईटर डायरैक्टर जावेद कमाल ने तमसीली मुशायरा ग़ज़ल का सफ़र चौमुहल्ला पैलैस खिलवत मुबारक में पेश करके एक तारीख़ रक़म की। इस मुशायरा में उर्दू ग़ज़ल को गले लगाने वाले बादशाह मुहम्मद क़ुली क़ुतुब शाह जो क़ुतुब शाही दौर का पांचवां बादशाह था, चंचल-ओ-शोख़, शेअर-ओ-शायरी का दिलदादा, अदीबों और शाइरों का सरपरस्त की सदारतमें ग़ज़ल का सफ़र तमसीली मुशायरा मुनाक़िद हुआ, जिस में वली से लेकर शाज़त मकनत को पेश किया गया और तमाम शारा-ए-को इस दौर के लिहाज़ से जो शायर जैसा है वैसे ही पेश करके दाद तहसीन हासिल की। इस परासर मुशायरा ने चौमुहल्ला पैलैस की अपनी शान को लौटा दिया। ऐसा लग रहा था फिर से इस महल की रौनक वापिस आ गई है।

इस तमसीली मुशायरा में जिन फ़नकारों ने हिस्सा लिया उन के नाम और शारा-ए-के नाम ये हैं। राईटर, डायरैक्टर डाक्टर जावेद कमाल, उर्दू, सना अह्मर, पस-ए-मंज़र आवाज़ डाक्टरहुमैरा सईद, हामिल शम्मा नूरजहां, मेकअप्प मास्टर शफ़ी, सदारत क़ुली क़ुतुब शाह, यूसुफ़उद्दीन यूसुफ़, शारा-ए-वली औरंगाबादी, डाक्टर मक सलीम, आरज़ू, अज़ीम इक़बाल, मीरतक़ी मीर, सलीम ख़ां, आतिश, सय्यद आरिफ़ ज़ौक़, मुहम्मद नीर-ए-आज़म, मिर्ज़ा ग़ालिब,इबराहीम अय्याज़, मोमिन ख़ां मोमिन, शेख़ इक़बाल, दाग़ देहलवी, डाक्टर मुईन अमर बंबू, हसरत मोहानी, मिर्ज़ा हामिद बेग, जिगर मुरादाबादी, वहीद पाशाह कादरी, फ़िराक़ गोरखपोरी, महबूब ख़ां असग़र, मख़दूम मुही उद्दीन, सुलतान सुबहान, शाज़ तमकनत, मुहीउद्दीन क़ादिर जीलानी, रात देर गए ये मुशायरा कामयाबी के साथ चलता रहा।

TOPPOPULARRECENT