Sunday , December 17 2017

तमाम 120 लेजिस्लेचर्स की ताईद का सिद्दा रामैया का इद्दिआ

बैंगलौर, 10 मई: (एजेंसीज़) कांग्रेस क़ाइद सिद्दा रामैया (Siddaramaiah) जिन्हें ये तवक़्क़ो है कि वो रियासत कर्नाटक के आइन्दा वज़ीर-ए-आला होंगे ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि पार्टी के 120 नौ मुंख़बा लेजिस्लेचर्स उन के साथ हैं।

बैंगलौर, 10 मई: (एजेंसीज़) कांग्रेस क़ाइद सिद्दा रामैया (Siddaramaiah) जिन्हें ये तवक़्क़ो है कि वो रियासत कर्नाटक के आइन्दा वज़ीर-ए-आला होंगे ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि पार्टी के 120 नौ मुंख़बा लेजिस्लेचर्स उन के साथ हैं।

नई दिल्ली से कांग्रेस अपने मुबस्सिरीन (observers) को कर्नाटक रवाना कर रही है ताकि यहां मौजूदा सूरत-ए-हाल का जायज़ा लिया जा सके और नए वज़ीर-ए-आला के ओहदा के लिए लेजिस्लेचर्स (MLAs) की पसंद का ख़्याल रखा जाये । सिद्दा रामैया ने कहा कि मुबस्सिरीन पार्टी हाईकमान को वाक़िफ़ करवाएंगे कि रियासत के लेजिस्लेचर्स की पसंद क्या है ।

अपनी क़ियामगाह पर अख़बारी नुमाइंदों से गुफ़्तगु करते हुए उन्होंने ये बात कही । याद रहे कि सिद्दा रामैया क़ब्लअज़ीं असेम्बली में क़ाइद अपोज़ीशन थे । उन्होंने एक बार फिर अपनी बात दोहराते हुए कहा कि तमाम 120 लेजिस्लेचर्स की ताईद उन्हें हासिल है और रियासत के नए वज़ीर-ए-आला बनने के लिए इम्कानात रोशन हैं ।

अलबत्ता उन्होंने ये नहीं बताया कि मुबस्सिरीन के तौर पर दिल्ली से किसे रवाना किया जाएगा और वज़ीर-ए-आला के ओहदा के लिए नाम का फ़ैसला कब किया जाएगा यहां इस बात का तज़किरा दिलचस्प होगा कि तीन रोज़ क़ब्ल मुनाक़िदा असेम्बली इंतेख़ाबात में कांग्रेस को 121 नशिस्तों पर कामयाबी मिली जबकि असेम्बली 225 नशिस्तों पर मुश्तमिल है ।

चहारशंबा तक भी जब वोटों की गिनती का सिलसिला जारी था उस वक़्त भी सिद्दा रामैया ने यही कहा था कि वज़ीर-ए-आला के ओहदा के लिए वो मज़बूत दावेदार हैं । सिद्दा रामैया के इलावा एक और क़ाइद हैं जो वज़ीर-ए-आला के ओहदा के लिए ख़ुद को मज़बूत दावेदार क़रार दे रहे हैं । ये कोई और नहीं बल्कि मर्कज़ी वज़ारत में वज़ीर लेबर और रोज़गार की हैसियत से अपने फ़राइज़ अंजाम देने वाले मल्लिकार्जुन खरगे हैं ।

उन्होंने कहा कि अगर हाईकमान उन्हें वज़ीर-ए-आला के लिए अहल उम्मीदवार समझती है तो हाईकमान का फ़ैसला सर आँखों पर । वो अपने नाम पर महज़ इसलिए ग़ौर करवाने की बात नहीं कर रहे क्योंकि वो एक दलित हैं ।

TOPPOPULARRECENT