Saturday , December 16 2017

तशद्दुद के बावजूद गैरकानूनी तारकीन ए वतन के ख़िलाफ़ मुहिम जारी

सऊदी अरब में गैरकानूनी तारकीन ए वतन के ख़िलाफ़ कार्रवाई का सिलसिला कल पेश आए पुरतशद्दुद वाक़ियात के बावजूद जारी है और हुकूमत ने बहरसूरत गैरकानूनी तारकीन ए वतन के ख़िलाफ़ फैसलाकुन कार्रवाई का तहय्या कर रखा है । कल इथोपिया के गैरकानून

सऊदी अरब में गैरकानूनी तारकीन ए वतन के ख़िलाफ़ कार्रवाई का सिलसिला कल पेश आए पुरतशद्दुद वाक़ियात के बावजूद जारी है और हुकूमत ने बहरसूरत गैरकानूनी तारकीन ए वतन के ख़िलाफ़ फैसलाकुन कार्रवाई का तहय्या कर रखा है । कल इथोपिया के गैरकानूनी तारकीन ने तशद्दुद शुरू कर दिया था जिस में 2 अफ़राद हलाक और दर्जनों ज़ख्मी हो गए थे ।

इस वाक़िया के बाद 2 सवालात उभर रहे हैं कि ये गैरकानूनी तारकीन ए वतन आख़िर किस तरह सऊदी अरब में दाख़िल हुए और दूसरा सवाल ये है कि उन्होंने रोज़गार कैसे हासिल कर लिया? हफ़्ता की शब हज़ारों इथोपियाई तारकीन ए वतन बिशमोल ख़वातीन ने जो चाक़ू , पत्थर और शीशों से लैस थे पुलिस , पैदल राहरू और गाड़ीयों में सफ़र करने वालों को धमकाना शुरू कर दिया था ।

पुलिस ने उन्हें मुंतशिर करने केलिए हवा में फायरिंग की और हल्के ताक़त का इस्तेमाल किया। इन झड़पों में दो अफ़राद हलाक हो गए जिन में एक सऊदी और एक इथोपियाई शामिल हैं। सऊदी शहरी को एक पत्थर सर पर लगने से उसकी मौत हो गई । 70 से ज़ाइद अफ़राद बिशमोल 28 सऊदी शहरी ज़ख्मी हो गए और 104 गाड़ियों को नुक़्सान पहूंचाया गया था । कई दुकानात को भी तबाह-ओ-ताराज किया गया ।

पुलिस ने 561 अफ़राद को गिरफ़्तार कर लिया । ज़िला मनफ़ूहा में इतवार को स्कूल बंद रहे । रियाद पुलिस सरबराह ब्रीगेडियर जनरल नासिर अल कहतानी ने बताया कि पुलिस ने वस्ती रियाद का मुहासिरा कर लिया है ताकि हुजूम पर क़ाबू किया जा सके और तशद्दुद फैलाने वालों को गिरफ़्तार किया जा सके ।

दरीं अस्ना एथोपीया के वज़ीर‍ ए‍ ख़ारेजा ने कहा है कि उनकी इत्तिला के मुताबिक़ तीन इथोपियाई शहरी हलाक हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि एक शख़्स गुज़शता मंगल को, जबकि दो तशद्दुद के ताज़ा वाकिये में हलाक हुए हैं। उन्होंने कहा कि अदीस अबाबा ने रियाद से इस सिलसिले में बाक़ायदा शिकायत की है।

एथोपीया के वज़ीर‍ ए‍ ख़ारेजा ने कहा: ये नाक़ाबिल-ए-बर्दाश्त है। हम सऊदी हुकूमत से मुतालिबा करते हैं कि वो पूरी संजीदगी से तमाम वाकिये की तहक़ीक़ात कराए। हम अपने शहरीयों को वापस लेने पर तैयार हैं लेकिन जब तक वो सऊदी अरब में हैं उनकी इज़्ज़त और एहतिराम का ख़्याल रखा जाना चाहिए।

TOPPOPULARRECENT