Friday , December 15 2017

तारा शाहदेव मामला : रंजीत उर्फ रकीबुल गिरफ्तार

शादी के बाद निशानेबाज तारा शाहदेव पर मजहब तब्दील का दबाव बनाने और उसे इस्तहसाल करने के इल्ज़ाम में पुलिस ने उसके शौहर रंजीत सिंह कोहली उर्फ रकीबुल हसन को गिरफ्तार कर लिया है। रंजीत को मंगल रात करीब 10 बजे दिल्ली के माहिपाल और पालम के

शादी के बाद निशानेबाज तारा शाहदेव पर मजहब तब्दील का दबाव बनाने और उसे इस्तहसाल करने के इल्ज़ाम में पुलिस ने उसके शौहर रंजीत सिंह कोहली उर्फ रकीबुल हसन को गिरफ्तार कर लिया है। रंजीत को मंगल रात करीब 10 बजे दिल्ली के माहिपाल और पालम के दरमियान पकड़ा गया। रंजीत के साथ उसकी वालिदा कौशल्या रानी भी थी। पुलिस ने उन्हें भी हिरासत में ले लिया है। डीजीपी राजीव कुमार ने इसकी तसदीक़ की है। दोनों कार से हरियाणा की तरफ से आ रहे थे। पुलिस ने कार से लैपटॉप, पैसे और कुछ दस्तावेज जब्त किये हैं।

झारखंड पुलिस को इत्तिला मिली थी कि रंजीत अपनी वालिदा के साथ दिल्ली में है। इसके बाद पुलिस की एक टीम को दिल्ली भेजा गया था। झारखंड पुलिस ने दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल की मदद से दोनों को पकड़ा। सिटी एसपी अनूप बिरथरे ने बताया, झारखंड पुलिस दोनों को बुध को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर रांची पहुंचेगी। रांची पहुंचने के बाद कौशल रानी और रंजीत कोहली से तफसील से पूछताछ की जायेगी।

रंजीत सिंह कोहली और उसकी मां को माहिपाल और पालम के दरमियान पकड़ा गया है। दोनों गाड़ी से हरियाणा की तरफ से आ रहे थे। पुलिस उन्हें ट्रांजिट रिमांड पर लेकर बुध को रांची पहुंचेगी।

अनूप बिरथरे (सिटी एसपी, रांची)

सारे इंतजाम कर सामने आ रहा रंजीत : तारा

इधर, एक टीवी चैनल से बातचीत में तारा शाहदेव ने इल्ज़ाम लगाया है कि सारे सुबूत मिटाने के बाद रंजीत मंसूबा बंदी तरीके से सामने आया है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार नहीं किया है, बल्कि वह खुद गिरफ्तार हुआ है। वह कानून के साथ खेलता है, उसकी पहुंच काफी ऊपर तक है। उसने पहले मीडिया से बात की। इसके बाद खुद ही गिरफ्तार हो गया।

कैसे हुआ गिरफ्तार

रंजीत के दिल्ली में होने की इत्तिला पर एसएसपी और सिटी एसपी की हिदायत पर लालपुर थानेदार शैलेश कुमार और सुखदेवनगर थानेदार रंधीर सिंह को दिल्ली भेजा गया। झारखंड पुलिस को इत्तिला थी कि रंजीत एक होटल में रुका है। टीम को दिल्ली पहुंचते ही इत्तिला मिली कि रंजीत होटल से निकल चुका है। वह होटल के एक वेटर के घर पर रुका है। इसके बाद झारखंड पुलिस, दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के अफसरों के साथ वेटर के घर पहुंची। पर रंजीत यहां से भी भाग चुका था। पुलिस के पास रंजीत का मोबाइल नंबर था। बाद में इसे सर्विलांस पर लगाया गया। इसके बाद पुलिस को इत्तिला मिली कि रंजीत हरियाणा की तरफ से आ रहा है। उसके मोबाइल का लोकेशन माहिपाल और पालम के दरमियान का मिला। दिल्ली पुलिस के साथ खुसुसि मुहिम चला कर झारखंड पुलिस ने रंजीत को गिरफ्तार कर लिया।

TOPPOPULARRECENT