Wednesday , June 20 2018

तालाब कट्टा में खुले ट्रांसफॉर्मर्स से अवाम की ज़िन्दगियों को ख़तरा

हैदराबाद 14 जनवरी- ए पी ट्रांस्को बड़ी सख़्ती के साथ बिजली के बिल्ज वसूल करती है । बर्क़ी बिल्ज की अदाएगी में मामूली सी ताख़ीर पर सारेफ़ीन को जुर्माने अदा करने पड़ते हैं बिल्ज की अदाएगी में देरी पर बर्क़ी कनेक्शन मुनक़ते कर देने

हैदराबाद 14 जनवरी- ए पी ट्रांस्को बड़ी सख़्ती के साथ बिजली के बिल्ज वसूल करती है । बर्क़ी बिल्ज की अदाएगी में मामूली सी ताख़ीर पर सारेफ़ीन को जुर्माने अदा करने पड़ते हैं बिल्ज की अदाएगी में देरी पर बर्क़ी कनेक्शन मुनक़ते कर देने की धमकियां दी जाती हैं लेकिन सर्विस या ख़िदमात की बात आती है क़ौमी सतह पर बेहतर कारकर्दगी के लिए एवार्ड्स हासिल करने वाला महिकमा बर्क़ी ए पी ट्रांस्को सब से निचली सतह पर नज़र आता है ।

खास तौर पर पुराना शहर के ग़नजान आबादी वाले ऐसे कई इलाक़ा हैं जहां बर्क़ी ट्रांसफॉर्मर्स अवाम की ज़िन्दगियों के लिए ख़तरा बने हुए हैं । दरअसल सूद ख़ोरों और दीगर समाजी बुराईयों के ख़िलाफ़ रोज़नामा सियासत की मुहिम को देखते हुए तालाब कट्टा के एक ख़ानदान ने दफ़्तर सियासत को फ़ोन पर बताया कि एक मुक़ामी सूदखोर ने उन का जीना दूभर कर दिया है

और इस सिलसिला में सियासत से मदद के तलबगार हैं और इस परेशान हाल ख़ानदान की बिप्ता सुनने के लिए नुमाइंदा ख़ुसूसी को भेजा जाए चुनांचे राक़िम उल-हरूफ़ वहां पहूँचा तो पता चला कि मुक़ामी पहलवान ने जो इस इलाक़ा के बदनाम सूद ख़ोरों में से एक है सूदी क़र्ज़ हासिल करने वालों के लिए वबाल जान बना हुआ है ।

उस ने रक़म की अदाएगी का मुतालिबा करते हुए क़र्ज़दारों की ज़िंदगियां अजीरण कर रखी है । हम ने मुतास्सिरा ख़ानदान की सारी कहानी सुनी और उसे मुक़ामी मस्जिद कमेटी से रुजू करने का फैसला किया ।

मस्जिद कमेटी के अरकान ने उस पहलवान से बात करने का त्यक्कुन देते हुए बताया कि बस्ती वालों के लिए सूदखोरों के साथ-साथ बर्क़ी ट्रांसफॉर्मर्स भी एक मसअला बने हुए हैं अगर सियासत के ज़रीया ए पी ट्रांस्को की इस मुजरिमाना तसाहुल को मंज़रे आम पर लाया जाए तो बेहतर रहेगा ।

नए साल के दूसरे दिन ही बन्डला गुड़ा में ट्रांसफार्मर फट पड़ा जिस के बाइस 24 साला मुहम्मद अब्दुल मुबीन वल्द मुहम्मद अब्दुल माजिद साकिन ग़ौस नगर बन्डला गुड़ा झुलस कर शदीद ज़ख्मी हो गए । इसी तरह कुछ अर्सा क़ब्ल काला पत्थर के बिलाल नगर में बर्क़ी ट्रांसफार्मर फटने से 22 साला मुहम्मद निसार और 12 साला अज़हर उद्दीन ज़ख्मी हो गए ।

तालाब कट्टा की अवाम ना सिर्फ़ ए पी ट्रांस्को बल्कि मुताल्लिक़ा कॉर्पोरेटर पर भी ब्रहम हैं । उन लोगों का कहना है कि कोई सानिहा पेश आने से क़ब्ल ही एहतियाती तदाबीर अख्तियार करना ज़रूरी है । लेकिन ए पी ट्रांस्को और कौंसिलर को अवाम की इन तकालीफ़ का कोई एहसास नहीं ।

कोर्पोरेटर्स उन मुआमलत में अचानक नमूदार हो जाते हैं जिन से उन का ताल्लुक़ ही नहीं होता जब कि बल्दी मसाइल , बर्क़ी बिल्ज में इज़ाफ़ा और दीगर अवामी मसाइल को हल करने की बजाय ये लोग अपने मुफ़ादात की तकमील को अहमियत देते हैं । काश ये अब भी सँभाल जाएं वर्ना दास्तां तक ना होगी दास्तानों में जैसे अंजाम होगा (खुसूसी नुमाईन्दा)

TOPPOPULARRECENT