Thursday , December 14 2017

तालिबान से मुज़ाकरात में मदद के लिए अमरीका का मौलाना समीअ उल-हक़ से राबिता

ईस्लामाबाद 14 दिसमबर (एजैंसीज़) अमरीका ने जमीयत-ए-उलमा इस्लाम (स) के सरबराह मौलाना समीअ उल-हक़ को कलअदम तहरीक तालिबान पाकिस्तान के साथ मुज़ाकरात में मदद केलिए कहा है। हफ़्ता को इस बात की तसदीक़ करते हुए मौलाना समीअ उल-हक़ ने इन्किश

ईस्लामाबाद 14 दिसमबर (एजैंसीज़) अमरीका ने जमीयत-ए-उलमा इस्लाम (स) के सरबराह मौलाना समीअ उल-हक़ को कलअदम तहरीक तालिबान पाकिस्तान के साथ मुज़ाकरात में मदद केलिए कहा है। हफ़्ता को इस बात की तसदीक़ करते हुए मौलाना समीअ उल-हक़ ने इन्किशाफ़ किया कि अलक़ायदा, तालिबान और हक़्क़ानी नैटवर्क से मुज़ाकरात के एहतिमामके लिए उन से मुतअद्दिद बार राबते किए गए लेकिन वो इस सिलसिले में कोई किरदार अदा करने से इनकार करते रहे हैं।

उन्हों ने कहा कि फ़िलवक़्त तमाम अलक़ायदा और तालिबान रहनुमा अफ़्ग़ानिस्तान के अंदर कार्यवाईयों में मसरूफ़ हैं, यही बात मिलने वाले सीनीयर अमरीकी सिफ़ारतकारों को भी बता दी गई जिन्हों ने अलक़ायदा और तालिबान से मुज़ाकरात में मदद देने की दरख़ास्त की थी। मौलाना समीअ उल-हक़ के मुताबिक़ कोई भी हकूमत-ए-पाकिस्तान और करज़ई हुकूमत पर एतिमाद और भरोसा करने केलिए आमादानहीं।

अमरीकी दरख़ास्त पर सिफ़ारत ख़ाने के पोलीटिक्ल कौंसलर जोनाथन जी पराट और बॉर्डर यूनिट चीफ़ क्रिस्टोफ़र हैरिस ने मौलाना समीअ उल-हक़ से उन की रिहायश गाह पर मुलाक़ात की जो 2 घंटे जारी रही। उन्हों ने अमरीकी सिफ़ारत कारों से कहा कि आप की बातें बहुत अच्छी हैं लेकिन अमल इस के बरख़िलाफ़ होता है।

एक तरफ़ आप मुज़ाकरात और मुफ़ाहमत की बात करते हैं तो दूसरी तरफ़ पाकिस्तान की सरहदी और फ़िज़ाई हदूद की जब चाहे ख़िलाफ़वरज़ी करते हैं।

TOPPOPULARRECENT