Sunday , December 17 2017

तालिब इल्म यूनियन ने घेरा जिला तालीम अफसर का दफ्तर

रांची 14 मई : झारखंड तालिब इल्म यूनियन के आरकिन ने असिस्टेंट टीचर और उर्दू असातज़ा की तकरीरी में अनारक्षित (अनरिज़र्व) आम ओहदों पर रियासत के उम्मीदवारों को बहाल करने की तलब करते हुए जिला तालीम सुप्रिटेनडेंट दफ्तर का घेराव किया। जि

रांची 14 मई : झारखंड तालिब इल्म यूनियन के आरकिन ने असिस्टेंट टीचर और उर्दू असातज़ा की तकरीरी में अनारक्षित (अनरिज़र्व) आम ओहदों पर रियासत के उम्मीदवारों को बहाल करने की तलब करते हुए जिला तालीम सुप्रिटेनडेंट दफ्तर का घेराव किया। जिला तालीम सुप्रिटेनडेंट के जानिब से गवर्नर के
सलाहकार को मेमोरेंडम भी सौंपा। यूनियन के सदर एस अली ने कहा कि रियासत में थर्ड ग्रेड की बहाली होनी है, रियासत के बच्चों को पढ़ाना है और तनख्वाह भी झारखंड हुकूमत देगी, इसलिए इस तबके की तकरीरी में रियासत के उम्मीदवारों की ही बहाली होनी चाहिए। रिहायसी सर्टिफिकेट लाज़मी किया
जाये। बिहार हुकूमत ने भी असातज़ा अहलियत इम्तेहान (टीइटी) के इंटरव्यू में दूसरे रियासत के उम्मीदवारों को मौक़ा नहीं दिया है।

उन्होंने कहा कि तकरीरी में तालीमी मेधा पॉइंट्स की जगह टीइटी के मेरिट लिस्ट को बुन्याद बनाया जाये। सीबीएसइ, आइसीएसई बोर्ड में मार्क्स ज्यादा रहता है। तालीमी मेधा पॉइंट्स नहीं हटाने पर पहले की ताक्रिरियों की तरह इसमें भी दूसरे रियासत के उमीदवार फायदा होकर अनरिज़र्व ओहदों पर बहाल हो जायेंगे।

उर्दू असातज़ा के 1561 रिज़र्व (एससी/एसटी) ओहदों के लिए दरख्वास्त नहीं आये, न कोई इम्तेहान में शामिल हुआ है. इसलिए उन ओहदों को पश्मंदा तबके में मुंसलिक करना चाहिए। घेराव और धरना कारकर्दगी में शिवा कच्छप, राकेश
किरण, नाजिया तबस्सुम, शम्सुल हक, ओम प्रकाश, इस्मे आजम, मो इमरान, मो फुरकान, नसरीन परवीन और दीगर शामिल थे।

TOPPOPULARRECENT