तालीमी इदारे तिजारती मराकिज़ में तबदील

तालीमी इदारे तिजारती मराकिज़ में तबदील

तालीमी इदारे तिजारती मराकिज़ में तबदील होते जा रहे हैं । स्कूलों में इज़ाफ़ी फ़ीस के मसला पर बारहा नुमाइंदगी के बावजूद हुक्काम की अदम तवज्जही स्कूल इंतिज़ामीया के हौसलों में इज़ाफ़ा का बाइस बन रही है । स्कूल इंतिज़ामीया ना सिर

तालीमी इदारे तिजारती मराकिज़ में तबदील होते जा रहे हैं । स्कूलों में इज़ाफ़ी फ़ीस के मसला पर बारहा नुमाइंदगी के बावजूद हुक्काम की अदम तवज्जही स्कूल इंतिज़ामीया के हौसलों में इज़ाफ़ा का बाइस बन रही है । स्कूल इंतिज़ामीया ना सिर्फ तलबा-ए-की फ़ीस से आमदनी हासिल कर रहे हैं बल्कि स्कूल की कुशादगी से कब्ल किताबों के स्टालस , यूनीफार्मस और स्टेशनरी भी स्कूल से फ़रोख़त करते हुए ज़बरदस्त आमदनी हासिल कररहे हैं । किताबों के स्टालस लगाने के लिए स्कूल इंतिज़ामीया तलबा-ए-की तादाद के एतबार से हज़ारों से लाखों रुपये पब्लिशर और रीटेलर से हासिल करते हुए उन्हें कुतुब की फ़रोख़त की इजाज़त दे रहे हैं ।

जो कुतुब बैरून स्कूल कम क़ीमत पर आसानी से दस्तयाब होजाते हैं वो स्कूलस में इज़ाफ़ी क़ीमत पर फ़रोख़त किए जा रहे हैं जिस के सबब ओलयाए तलबा-ए-पर इज़ाफ़ी माली बोझ आइद होरहा है । स्कूलस की जानिब से हर साल पब्लिशरज़ तबदील करते हुए नई कुतुब निसाब में शामिल की जा रही हैं जिस के सबब तलबा-ए-के पुराने कुतुब तक़रीबन नाकारा हो रहे हैं अगर ज़िलई इंतिज़ामीया बिलख़सूस ज़िला कुलैक्टर फ़ौरी तौर पर हरकत में आते हुए ज़िलई तालीमी ओहदे दार (डी ई ओ) को इस बात का पाबंद बनाईं कि स्कूलस मख़सूस दोकानात या अपने मुक़ाम पर से कुतुब ख़रीदने के लिए तलबा-ए-को मजबूर ना करें तो ऐसी सूरत में ओलयाए तलबा-ए-पर आइद होरहे ग़ैर ज़रूरी इज़ाफ़ी माली बोझ को कम किया जा सकता है ।

बावसूक़ ज़राए से मौसूला इत्तिलाआत के बमूजब ज़िला कुलैक्टर की जानिब से इस ख़सूस मैं बाज़ाबता अहकामात जारी करने के मुताल्लिक़ ग़ौर-ओ-ख़ौस किया जा रहा है । स्कूल इंतिज़ामीया पब्लिशरज़ और फ़रोख़त कननदों से कमीशन हासिल करते हुए तलबा-ए-को सहूलत के नाम पर ओलयाए तलबा-ए-को ज़हमत देने के मुर्तक़िब होरहे हैं । इससूरत-ए-हाल से ओलयाए तलबा-ए-को नजात दिलाने के लिए ये ज़रूरी है कि ज़िला इंतिज़ामीया और महिकमा तालीम तमाम ख़ानगी स्कूलों के ज़िम्मेदारों को इस बात का पाबंद बनाईं कि वो अपने स्कूल में मौजूद तालीमी निसाब की फ़हरिस्त स्कूल के बाहर आवेज़ां करें ताकि ओलयाए तलबा-ए- एस फ़हरिस्त के मुताबिक़ बाहर किसी भी मुक़ाम से मतलूबा किताबें खरीदते हुए इज़ाफ़ी माली बोझ से महफ़ूज़ रह सकें ।

ओलयाए तलबा-ए-कीजानिब से इस सिलसिले में बारहा एहतिजाज के बावजूद स्कूल इंतिज़ामीया स्कूल से कुतुब-ओ-स्टेशनरी की ख़रीदी के लिए तलबा-ए-को मजबूर करते हैं जिस से ओलयाए तलबा-ए-नालां हैं । अपने बच्चों के बेहतर मुस्तक़बिल के लिए ओलयाए तलबा-ए-बलाचों-ओ-चरा स्कूल इंतिज़ामीया की हर बात मानने तैय्यार होजाते हैं । जिस का बेहतरीन फ़ायदा पब्लिशरज़ और फ़रोख़त कुनिनदों को हासिल होरहा है ।

ज़िला कलक्टर मिस्टर एन गुलज़ारजो कि तालीमी मुआमलात में सख़्त गीर मौक़िफ़ के हामिल ओहदेदार तसव्वुर किए जाते हैं से ओलयाए तलबा-ए-ने अपील की कि वो इस मसला पर फ़ौरी तवज्जा मबज़ूल करते हुए निसाबी कुतुब की फ़हरिस्त को स्कूलों के आग़ाज़ से कब्ल तलबा-ए-के हवाले करने की हिदायत जारी करें । ताकि ओलयाए तलबा-ए-स्कूल की जानिब से मुख़तस करदा दूकान या फिर स्कूल से कुतुब के हुसूल के लिए मजबूर-ओ-बेबस ना रहीं ।

Top Stories