Friday , January 19 2018

ताज़ा एफ़ आई आर और तहक़ीक़ात की राह हमवार

नई दिल्ली, १६ दिसम्बर (पी टी आई) स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) जू 2004-ए-में गुजरात में इशरत जहां के मुबय्यना फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुआमला की तहक़ीक़ात कर रही है, ने आज सी बी आई में अपनी शिकायत दर्ज करवाई, जिस के बाद एक ताज़ा एफ़ आई आर रजिस्ट्रेशन औ

नई दिल्ली, १६ दिसम्बर (पी टी आई) स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) जू 2004-ए-में गुजरात में इशरत जहां के मुबय्यना फ़र्ज़ी एनकाउंटर मुआमला की तहक़ीक़ात कर रही है, ने आज सी बी आई में अपनी शिकायत दर्ज करवाई, जिस के बाद एक ताज़ा एफ़ आई आर रजिस्ट्रेशन और इस मुआमला की तहक़ीक़ात के आग़ाज़ की राह हमवार हो गई।

सी बी आई इस शिकायत की जांच पड़ताल करने के बाद कॉलिज तालिबा इशरत जहां की गुजरात पुलिस ओहदेदारों के हाथों हलाक किए जाने की तहक़ीक़ात केलिए एक ताज़ा मुआमला दर्ज करेगी। याद रहे कि यक्म डसमबर को गुजरात हाइकोर्ट ने सी बी आई को हिदायत दी थी कि इस मुआमला की मज़ीद तहक़ीक़ात की जाये, जहां 19 साला इशरत जहां, जावेद शेख़ उर्फ़ प्रणेश पिलाई, अमजद अली राना और ज़ीशान जौहर को अहमदाबाद में हलाक कर दिया गया था।

स्पैशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) जिस की तशकील ख़ुद हाइकोर्ट ने की थी, ने अपनी तहक़ीक़ाती रिपोर्ट गुज़शता माह तैयार कर ली थी, जहां ये कहा गया था कि मज़कूरा बाला तमाम अफ़राद का एनकाउंटर दरअसल पुलिस की जानिब से मंसूबा बंद था और इसी रिपोर्ट के इदख़ाल के बाद हाइकोर्ट ने नई हिदायतें जारी कीं।

दूसरी तरफ़ मेट्रो पोलीटन मजिस्ट्रेट एस पी तमंग की तैयार करदा तहक़ीक़ाती रिपोर्ट में 21 पुलिस अहलकारों बिशमोल उस वक़्त के क्राईम ब्रांच सरबराह पी पी पानडे, मुअत्तल शूदा डी आई जी वंज़ारा, उस वक़्त के ए पी सी जी एल सिंघल और ए सी पी ए के अमीन पर इल्ज़ाम आइद किया गया था कि एनकाउंटर के लिए उन्होंने मंसूबा बंद तरीक़ा पर साज़िश तैय्यार की थी।

TOPPOPULARRECENT