Tuesday , December 19 2017

तीस्ता सीतलवाड़ पर नफ़रत फ़ैलाने का मुक़द्दमा चलाया जा सकता है: HRD मिनिस्ट्री

AFP/GETTY IMAGES Teesta Setalvad.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा गठित एक पैनल ने कहा है कि सामाजिक कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153-ए और 153-बी के तहत मुक़दमा दर्ज करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं, दोनों धारा नफरत फेलाने के लिए दिए गए भाषणों संबंधित हैं |

इंडियन एक्सप्रेस में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, पैनल ने सीतलवाड़ “नफरत से भरे, दुर्भावना पैदा करने, दुश्मनी पैदा करने वाले विस्फोटक लेखन के लिए” दोषी पाया है ।

रिपोर्ट में आगे कहा, “समिति ने यह भी कहा है कि वे अधिकारियों जो यूपीए सरकार के वक़्त मानव संसाधन विकास मंत्रालय में थे वे भी ” जवाबदेही, जिम्मेदारी और दोष ” से नहीं बच सकते क्योंकि उस समय सबरंग ट्रस्ट को पात्र न होते हुए भी 1.39 करोड़ रुपये अनुदान के रूप में जारी किया गया थे। ”

आगे कहा गया कि यदि समिति की सिफारिशों को केंद्र की ओर से स्वीकार कर लिया जाता है तब सीतलवाड़ के साथ-साथ अधिकारियों को भी कार्रवाई का सामना करना पड़ सकता है।

यह समिति, जिसे स्मृति ईरानी द्वारा मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान 2015 में गठित किया गया था, इसने वर्तमान मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। मंत्री ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि उन्होंने अभी रिपोर्ट नहीं देखी है इसलिए आगे की कार्यवाही के बारे में अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है ।

इस साल जून में, सरकार ने सीतलवाड़ और उसके पति द्वारा चलाए जा रहे सबरंग ट्रस्ट का एफसीआरए लाइसेंस रद्द कर दिया था । इस साल जनवरी में सुप्रीम कोर्ट ने सीतलवाड़ और उनके पति को उनके खिलाफ दर्ज दो आपराधिक मामलों में जांचकर्ताओं के साथ सहयोग करने के लिए से कहा था। शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि जांच के विरोध पर, सीतलवाड़ को गिरफ्तारी का सामना करना पड़ सकता है।

इंडिया टुडे की जुलाई 2015 एक रिपोर्ट के मुताबिक , ‘ गुजरात सरकार की ओर से तीस्ता और आनंद पर 2002 के दंगों के पीड़ितों के लिए बने फण्ड में धांधली का आरोप लगाया गया था, तीस्ता ने बार-बार इन आरोपों का खंडन करते हुए केंद्र और भाजपा द्वारा शासित गुजरात सरकार पर 2002 के दंगों के पीड़ितों के साथ किये गए अपने काम का प्रतिशोध लेना का आरोप लगाया था। ” गुजरात पुलिस ने भी सीतलवाड़ के खिलाफ ‘भारी’ अनुपात की धोखाधड़ी का आरोप लगाया था।

उसी महीने में गुजरात सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि सीतलवाड़ और उनके पति ने शराब और अन्य अय्याशियों के लिए धन का गबन किया था। इसके बाद सीबीआई ने उनके खिलाफ एक मामला दर्ज किया और मुंबई में उनके घर और पब्लिशिंग हाउस परिसर की खोज की थी। उन्होंने इन दोनों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा भी बताया था।

सीतलवाड़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के एक प्रमुख आलोचक है। अपने अन्य कार्यों के साथ, वे पूर्व सांसद एहसान जाफरी की पत्नी ज़किया जाफरी की गुजरात सरकार और एहसान जाफरी के कथित हत्यारों के खिलाफ लंबे समय से चल रही कानूनी लड़ाई में जाकिया जाफरी की मदद कर रही हैं । एहसान जाफरी को अन्य कई मुसलमानों के साथ 2002 के दंगों में गुजरात के दौरान अहमदाबाद में भीड़ ने मार डाला था।

सीतलवाड़ के खिलाफ धोखाधड़ी के मामलों और जांच जाकिया जाफरी मामले में सुनवाई के शुरू होने कुछ दिन शुरू किये गए थे। सीतलवाड़ ने आरोप लगाया कि सरकार तंत्र है उन्हें धमकाना और उनकी वजह से सरकार जो शर्मिंदगी झेलनी पड़ी है उसका बदला लेने के लिए कोशिश कर रहा था।

TOPPOPULARRECENT