Tuesday , December 19 2017

तृणमूल कांग्रेस के बारे में फ़िलहाल कुछ कहना नहीं चाहती : जया ललीता

चेन्नई, २० सितंबर (पी टी आई) वज़ीर-ए-आला तमिलनाडू जया ललीता ने तृणमूल कांग्रेस की जानिब से यू पी ए हुकूमत की ताईद ( समर्थन) से दसतबरदारी ( अलग हो जाने) इख़तियार करने के मुआमले पर लब कुशाई से इनकार कर दिया।

चेन्नई, २० सितंबर (पी टी आई) वज़ीर-ए-आला तमिलनाडू जया ललीता ने तृणमूल कांग्रेस की जानिब से यू पी ए हुकूमत की ताईद ( समर्थन) से दसतबरदारी ( अलग हो जाने) इख़तियार करने के मुआमले पर लब कुशाई से इनकार कर दिया।

दिल्ली रवाना होने से क़बल मीडीया नुमाइंदों ( पत्रकारो) से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वो कावेरी रीवर अथॉरीटी मीटिंग में शिरकत के लिए जारी हैं और फ़िलहाल उन की तमाम तर तवज्जा इसी मीटिंग पर मर्कूज़ ( केंद्रित/आधारित) है। कावेरी रीवर अथॉरीटी (CRA) की क़ियादत ( Leadership/नेतृत्व में) वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह कर रहे हैं और इस का इनइक़ाद (आयोजन) इसलिए किया जा रहा है जब मर्कज़ ने सुप्रीम कोर्ट को तयक्कुन (भरोसा) दिया था।

यहां इस बात का तज़किरा ज़रूरी है कि कर्नाटक के साथ आबी तक़सीम (पानी के वितरण) के मुआमले पर जया ललीता ने CRA के इजलास ( सभा) के इनइक़ाद की ज़रूरत पर हमेशा से ज़ोर दिया है।

मज़कूरा ( उक़्त) इजलास के दौरान जया ललीता क्या मौक़िफ़ ( निश्च्य) और हिक्मत-ए-अमली ( कूटनिती) इख़तियार करने वाली हैं, इसके लिए उन्हों ने एक रोज़ा क़बल ही सीनीयर काबीनी रफ़क़ा के साथ तफ़सीली तबादला-ए-ख़्याल ( विचार विमर्श) किया था।

TOPPOPULARRECENT