Thursday , December 14 2017

तेलंगाना असेंबली में सलतनत आसिफ़िया के कारनामे नज़रअंदाज

तेलंगाना हुकमत की जानिब से सलतनत आसिफ़िया के कारनामों को नज़रअंदाज करने का मुआमला आज असेंबली में मौज़ू बहस बन गया ताहम हुकूमत ने इस का वाज़ेह तौर पर जवाब देने से गुरेज़ किया। मुत्तहदा आंध्र प्रदेश में अलाहिदा तेलंगाना के लिए जद्दो जह

तेलंगाना हुकमत की जानिब से सलतनत आसिफ़िया के कारनामों को नज़रअंदाज करने का मुआमला आज असेंबली में मौज़ू बहस बन गया ताहम हुकूमत ने इस का वाज़ेह तौर पर जवाब देने से गुरेज़ किया। मुत्तहदा आंध्र प्रदेश में अलाहिदा तेलंगाना के लिए जद्दो जहद और उस में कामयाबी के बाद अब नई रियासत तेलंगाना में तहज़ीबों का टकराव देखा जा रहा है।

कांग्रेस के रुक्न डॉक्टर जी चिन्ना रेड्डी ने वक्फ़ा सवालात में हुकूमत पर शुमाली तेलंगाना की तहज़ीब को जुनूबी तेलंगाना पर मुसल्लत करने का इल्ज़ाम आइद किया। उन्हों ने शिकायत की कि तेलंगाना में तालाबों के तहफ़्फ़ुज़ के लिए शुरू कर्दा मुहिम का जो नाम दिया गया है वो तेलंगाना पर हुक्मरानी करने वाले दूसरे हुक्मरानों के साथ नाइंसाफ़ी है।

हुकूमत ने तेलंगाना के 9 अज़ला में तालाबों की बहाली और तहफ़्फ़ुज़ के प्रोग्राम को मिशन काकतिया का नाम दिया है जिस का मतलब काकतिया दौरे हुकूमत में तामीर कर्दा तालाबों का तहफ़्फ़ुज़ है। डॉक्टर चिन्ना रेड्डी ने मिशन काकतिया नाम पर एतराज़ किया और कहा कि उन के ज़िला महबूबनगर और जुनूबी तेलंगाना के इलाक़ों में दीगर हुक्मरानों ने तालाब तामीर किए थे और यहां काकतिया हुक्मरानों का कोई रोल नहीं रहा फिर भी सारी रियासत के तालाबों को काकतिया हुकूमत से मंसूब करना मुनासिब नहीं।

दरअसल उन का इशारा सलतनत आसिफ़िया और खासतौर पर आसिफ़ साबह नवाब मीर उसमान अली ख़ान की जानिब से तामीर किए गए तालाबों की तरफ़ था। असेंबली और इस के बाहर निज़ाम हैदराबाद के कारनामों का ज़िक्र करने वाले मुस्लिम अरकान असेंबली की इस मौक़ा पर ख़ामूशी मानी ख़ेज़ रही। शायद तेलुगु ज़बान में जारी असेंबली की कार्रवाई को वो समझने से क़ासिर रहे।

TOPPOPULARRECENT