Thursday , January 18 2018

तेलंगाना , आंध्र और राइलसिमा में मरहला वार असास पर उसे मुक़द्दमात से दसतबरदारी इख़तियार की जा रही है।

पुलीस इस्टेशन में दर्ज करदा एक फ़ौजदारी मुक़द्दमे में जगन मुल्ज़िम नंबर 30 हैं। रियासत की तक़सीम के ख़िलाफ़ दिसम्बर 2009

पुलीस इस्टेशन में दर्ज करदा एक फ़ौजदारी मुक़द्दमे में जगन मुल्ज़िम नंबर 30 हैं। रियासत की तक़सीम के ख़िलाफ़ दिसम्बर 2009
में एहतिजाज करने वालों पर दर्ज फ़ौजदारी मुक़द्दमात वापिस लेने केलिए हुकूमत ने एक पॉलीसी फैसला करते हुए ये अहकाम जारी किए थे और इस हुक्मनामा पर रियासत के तीनों हिस्सों में मरहला वार असास पर अमल किया जा
रहा है ।

जगन के ख़िलाफ़ ये मुक़द्दमात उस वक़्त दर्ज किए गए थे जब उन्होंने मुत्तहदा आंध्र प्रदेश की ताईद में एहतिजाज किया था । उस एहतिजाज के दौरान बी एस एन एल , आबपाशी और रेवन्यू दफ़ातिर में सरकारी इमलाक को नुक़्सान पहोनचाया गया था । जगन के ख़िलाफ़ ये मुक़द्दमा कड़पा के अस्सिटैंट सेशन्स जज की अदालत में ज़ेर समाअत है । डायरैक्टर जनरल पुलीस वि दिनेश
रेड्डी ने कड़पा ज़िला सुप्रिटेंडेंट पुलीस की रिपोर्ट की बुनियाद पर हुकूमत से सिफ़ारिश की थी कि मुल्ज़िम ( जगन ) के ख़िलाफ़ फ़ौजदारी मुक़द्दमात से दसतबरदारी इख़तियार ना की जाये । ताहम हुकूमत ने डी जी पी की सिफ़ारिशात कोमुस्तर्द करदिया ।

TOPPOPULARRECENT