Saturday , September 22 2018

तेलंगाना की तरक़्क़ी सारे मुल्क के लिए एक मिसाल

हैदराबाद 11 सितम्बर: अटाला राजिंदर ने कहा कि तरक़्क़ी के मुआमले में तेलंगाना सारे मुल्क के लिए काबिलेमिसाल बन जाएगा। नारायणगुड़ा के आरबीवीआर गर्लज़ कॉलेज में तेलंगाना इकनॉमिक एसोसीएशन् (टी ई ए) के इफ़्तेताही तक़रीब में मेहमान-ए-ख़ोसूसी ख़िताब करते हुए कहा कि रिसर्च के बग़ैर कोई भी रियासत तरक़्क़ी नहीं कर सकती। इकनॉमिक एसोसीएशन के मुल्क की तमाम रियासतों में यूनिट्स हैं।

तेलंगाना में एसोसीएशन के क़ियाम से मआशी तरक़्क़ी के मुआमले में एसोसीएशन की तरफ से मश्वरे-ओ-तजावीज़ वसूल होने की तवक़्क़ो का इज़हार किया। अटाला ने कहा कि माँ बाप अपने बच्चों को पढ़ा लिखा कर डॉक्टर्स, इंजीनियर्स बनाना चाहते हैं मगर कोई भी वालिदैन अपने बच्चों को सियासतदां और मआशी मुशीर बनाना नहीं चाहते। अटाला राजिंदर ने सोश्यल साईंस और मालीयाती तालीम से मुताल्लिक़ कोर्सस को एहमीयत देने पर-ज़ोर दिया।

अलाहिदा तेलंगाना रियासत की तशकील से पेहले तेलंगाना के 10 के मिनजुमला 9 अज़ला पसमांदगी का शिकार होने की वजह से तेलंगाना की तरक़्क़ी ना होने के दावे किए गए थे। कोई भी रियासत हो उस की तरक़्क़ी के लिए वीज़न होना चाहीए। अज़म और हौसला होना चाहीए।

पसमांदगी को ख़त्म करने का एजंडा होना चाहीए। केजी ता पीजी तालीम के लिए ख़ुसूसी मन्सूबा ना हो तो तरक़्क़ी के बेहतर नताइज की उम्मीद रखना फ़ुज़ूल है।

चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना केसीआर रियासत की तरक़्क़ी को यक़ीनी बनाने के लिए तालीम पर ख़ुसूसी तवज्जा दी है और रियासत में रेजिडेंशियल स्कूलस क़ायम किए गए हैं। अवाम को सेहत-ओ-तंदरुस्त रखने के लिए साफ़सुथरा पानी सरबराह करने के लिए मिशन भागीरता, देही इलाक़ों के अवाम किसानों को मआशी तौर पर मुस्तहकम बनाने के लिए मिशन काकतीय स्कीम का आग़ाज़ किया गया।

TOPPOPULARRECENT