तेलंगाना की तामीर ,ऐलानात से मुम्किन नहीं , मुक़र्ररा मुद्दत पर मबनी एक्शन प्लान की ज़रूरत

तेलंगाना की तामीर ,ऐलानात से मुम्किन नहीं , मुक़र्ररा मुद्दत पर मबनी एक्शन प्लान की ज़रूरत
तेलंगाना असेम्बली में गवर्नर के ख़ुतबे पर तहरीक तशक्कुर ,क़ाइद अपोज़िशन के जाना रेड्डी का ख़िताब

तेलंगाना असेम्बली में गवर्नर के ख़ुतबे पर तहरीक तशक्कुर ,क़ाइद अपोज़िशन के जाना रेड्डी का ख़िताब

तेलंगाना असेम्बली में क़ाइद अपोज़िशन के जाना रेड्डी ने हुकूमत से मुतालिबा किया कि वो तेलंगाना की तामीर-ए-नौ के लिए सिर्फ़ वादों पर इन्हिसार किए बगै़र मुक़र्ररा मुद्दत पर मबनी ऐक्शण प्लान अवाम के रूबरू पेश करे। असेम्बली में गवर्नर के ख़ुतबे पर तहरीक तशक्कुर पर मुबाहिस का इख़्तेताम करते हुए जाना रेड्डी ने तेलंगाना की तामीर-ए-नौ में हुकूमत से मुकम्मल तआवुन का यक़ीन दिलाया ताहम इस बात की वज़ाहत तल्ब की कि टी आर एस ने इंतेख़ाबी मंशूर में अवाम से जो वादे किए उन पर अमल आवरी के सिलसिले में हुकूमत के पास क्या हिक्मत-ए-अमली है।

उन्होंने कहा कि तेलंगाना की तामीर-ए-नौ सिर्फ़ ऐलानात से मुम्किन नहीं बल्कि तमाम जमातों की ताईद के ज़रीये इक़दामात करने होंगे। हुकूमत को चाहिए कि इस सिलसिले में नई पालिसी और एक्शण प्लान वज़ा करे और अमल आवरी के लिए मुद्दत का ताय्युन हो। जाना रेड्डी ने हुकूमत के मुख़्तलिफ़ एलानात पर अमल आवरी के बारे में हुकूमत से वज़ाहत तलब की।

जाना रेड्डी ने कहा कि तेलंगाना तहरीक की कामयाबी किसी फ़र्द या पार्टी की नहीं बल्कि तमाम जमातों की मुशतर्का जद्द-ओ-जहद का नतीजा है। अलाहदा तेलंगाना रियासत के हुसूल में सदर कांग्रेस सोनिया गांधी का रोल तारीख़ी रहा जिसे नजरअंदाज़ नहीं किया जा सकता। एवान में मौजूद हर रुकन ने अपने अपने अंदाज़ में तेलंगाना तहरीक में हिस्सा लिया।

अब जबकि तेलंगाना रियासत हासिल होचुकी है लिहाज़ा अवाम की तवक़्क़ुआत के मुताबिक़ हुकूमत को काम करना होगा। जाना रेड्डी ने गवर्नर के ख़ुतबे में तेलंगाना के हुसूल के लिए यू पी ए हुकूमत से इज़हार-ए-तशक्कुर ना किए जाने पर अफ़सोस का इज़हार किया और कहा कि कम अज़ कम चीफ़ मिनिस्टर को अपनी जवाबी तक़रीर में गुज़शता यू पी ए हुकूमत और सोनिया गांधी से इज़हार-ए-तशक्कुर करना चाहिए।

उन्होंने हुकूमत से मांग की कि वो अवाम से किए गए वादों पर अमल आवरी पर तवज्जे मबज़ूल करे। कांग्रेस इस सिलसिले में मुकम्मल तआवुन के लिए तैयार है और वो तामीरी अपोज़िशन का रोल अदा करेगी। उन्होंने कहा कि गवर्नर का ख़ुतबा एक दस्तूरी सनद होता है ताहम ख़ुतबे में कई अहम उमूर् को शामिल नहीं किया गया।

मुस‌लमानों और दर्ज फ़हरिस्त अक़्वाम के लिए 12फ़ीसद तहफ़्फुज़ात के ऐलान का हवाला देते हुए जाना रेड्डी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने तहफ़्फुज़ात के हक़ में 50फ़ीसद की हद मुक़र्रर की है। कांग्रेस ने जब 5फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए तो अदालत ने 50फ़ीसद की हद से तजावुज़ पर कुलअदम क़रार दिया लिहाज़ा कांग्रेस हुकूमत ने 4फ़ीसद तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए।

अभी भी ये माम‌ला सुप्रीम कोर्ट में ज़ेरे दौरान है। जाना रेड्डी ने हुकूमत से वज़ाहत तल्ब की कि वो 12फ़ीसद तहफ़्फुज़ात पर किस तरह अमल करेगी आया इस सिलसिले में ऐडवोकेट जनरल और माहिरीन क़ानून से मुशावरत की गई?। उन्होंने कहा कि तहफ़्फुज़ात पर अमल आवरी के सिलसिले में बी सी तबक़े केलिए मौजूदा तहफ़्फुज़ात में कोई कमी ना होने पाए।

उन्होंने कहा कि 12फ़ीसद के हिसाब से एसटी तबक़े के तहफ़्फुज़ात उनकी आबादी से ज़ाइद होजाएंगे लिहाज़ा इस पर अमल आवरी में कई क़ानूनी रुकावटें हैं। जाना रेड्डी ने सियासी करप्शन के ख़ातमे के अह्द का ख़ौरमक़दम किया और तजवीज़ पेश की कि सियासी करप्शन के साथ साथ हर शोबे में करप्शन का ख़ातमा होना चाहिए।

उन्होंने हैदराबाद की तहज़ीब‍-ओ‍-रिवायात के तहफ़्फ़ुज़ और इस के ब्रांड इमेज की बरक़रारी का मश्वरा दिया और कहा कि अमन-ओ-अमान और मज़हबी रवादारी का तहफ़्फ़ुज़ हुकूमत की ज़िम्मेदारी है। शहर में अमन की बरक़रारी के लिए नई सनअतों के क़ियाम की राह हमवार की जा सकती है।

क़ाइद अपोज़िशन ने कहा कि हुकूमत को चाहिए कि वादों पर अमल आवरी के साथ साथ जारीया स्कीमात को भी बरक़रार रखे। टी श्रिनिवास यादव ( तेलुगू देशम ) ने मुबाहिस में हिस्से लेते हुए हैदराबाद को पीने के पानी की सरबराही के लिए नई स्कीम के आग़ाज़ और अक़िलीयतों को तहफ़्फुज़ात की फ़राहमी का ख़ैरमक़दम किया।

उन्होंने कहा कि अक़िलीयतें तालीमी और मआशी एतबार से काफ़ी पसमांदा हैं और पुराने शहर में अक़िलीयतों की हालत दगरगों है। डाक्टर जय गीता रेड्डी ( कांग्रेस) ने भी मुबाहिस में हिस्से लिया।

Top Stories