Sunday , December 17 2017

तेलंगाना के 174 इंजीनियरिंग कॉलेजेस दाख़िलों की इजाज़त से महरूम

तेलंगाना में 174 इंजीनियरिंग कॉलेजेस में दाख़िलों की इजाज़त ना दिए जाने के सबब कई कॉलेजेस बाशमोल अक़लीयती कॉलेजेस के वजूद को ख़तरा लाहक़ हो सकता है।

तेलंगाना में 174 इंजीनियरिंग कॉलेजेस में दाख़िलों की इजाज़त ना दिए जाने के सबब कई कॉलेजेस बाशमोल अक़लीयती कॉलेजेस के वजूद को ख़तरा लाहक़ हो सकता है।

जवाहर लाल नहरू टेक्नोलॉजिकल यूनीवर्सिटी ने 174 कॉलेजेस को जारीया साल मुस्लिमा हैसियत देने से इनकार कर दिया जिन में 22 ता 25 कॉलेजेस का ताल्लुक़ अक़लीयती इदारों से है।

यूनीवर्सिटी की ये दलील है कि इन कॉलेजेस में कंप्यूटर्स और फैकल्टीज़ दस्तयाब नहीं हैं लिहाज़ा बुनियादी सहूलतों की कमी के बाइस वो जारीया साल दाख़िलों की इजाज़त नहीं दे सकती। अगर्चे ये मुआमला हाईकोर्ट तक पहुंच चुका है ताहम हाईकोर्ट के फ़ैसला पर इन कॉलेजेस के वजूद का इन्हिसार है।

हाई कोर्ट ने इस मसअले पर फ़रीक़ैन की समाअत के बाद अपना फ़ैसला महफ़ूज़ कर दिया है। तवक़्क़ो की जा रही है कि अदालत पीर के दिन अपना फ़ैसला सुनाएगी। यूनीवर्सिटी ने जिन बुनियादों पर कॉलेजेस को मुस्लिमा हैसियत देने से इनकार किया इस मसअले पर तेलंगाना हुकूमत का मौक़िफ़ भी यूनीवर्सिटी के ऐन मुताबिक़ है।

बताया जाता है कि तेलंगाना हुकूमत ने ख़ान्गी इंजीनियरिंग कॉलेजेस की जानिब से स्कालरशिप और फ़ीस बाज़ अदायगी स्कीमात में बड़े पैमाने पर बे क़ाईदगियों के इन्किशाफ़ के बाद यूनीवर्सिटी को इस तरह की कार्रवाई का मश्वरा दिया।

बताया जाता है कि हुकूमत ने खु़फ़ीया तहक़ीक़ात के ज़रीए इस बात का पता चलाया कि बेशतर ख़ान्गी इंजीनियरिंग कॉलेजेस बुनियादी सहूलतों से आरी हैं और तलबा के नाम पर लाखों रुपये फ़ीस बाज़ अदायगी के तौर पर हासिल किए जा रहे हैं।

तलबा सिर्फ़ दाख़िला लेकर इम्तेहानात में शिरकत करते हैं जबकि उन के लिए क्लासेस का एहतेमाम नहीं किया जाता। अब कॉलेजेस की नज़रें हाईकोर्ट पर टिकी हैं क्योंकि इस का फ़ैसला उन कॉलेजेस के मुस्तक़बिल को तय करेगा। इसी दौरान ख़ान्गी इंजीनियरिंग कॉलेजेस मैनेजमेंट एसोसीएशन ने धमकी दी है कि अगर हुकूमत तमाम कॉलेजेस को जारीया वेब कौंसलिंग में शामिल नहीं करेगी तो वो तमाम दाख़िलों को मुस्तरद करने से गुरेज़ नहीं करेंगे।

TOPPOPULARRECENT