Saturday , December 16 2017

तेलंगाना जद्द‍ ओ‍ जीहद में कला संबधीत‌ शोबा की शूमूलीयत ज़रूरी

हैदराबाद। तेलंगाना रिसोर्स सेंटर के ज़ेर-ए-एहतिमाम मुनाक़िद 14 वीं मुज़ाकरा जिस का उनवान आंधरा प्रदेश में तेलंगाना के सनअती इदारे निज़ाम शूगर फ़ैक्ट्री आज़म जाहि मिल्स‌ आई डी पी एल एच एम टी इलेव‌न प्रागा टूल्ज़ की क़िस्मत से ख़िताब करत

हैदराबाद। तेलंगाना रिसोर्स सेंटर के ज़ेर-ए-एहतिमाम मुनाक़िद 14 वीं मुज़ाकरा जिस का उनवान आंधरा प्रदेश में तेलंगाना के सनअती इदारे निज़ाम शूगर फ़ैक्ट्री आज़म जाहि मिल्स‌ आई डी पी एल एच एम टी इलेव‌न प्रागा टूल्ज़ की क़िस्मत से ख़िताब करते हुए मुख़्तलिफ़ शोबा-ए-हयात से ताल्लुक़ रखने वाले माहिरीन ने कहा कि सीमा आंधरा ख़ित्ते के तेलंगाना में इंज़िमाम से क़बल तेलंगाना वसाइल से मालामाल ख़ित्ता था । मगर मुत्तहीदा रियासत के क़ियाम ने इन तमाम वसाइल को तहस नहस करने का काम किया है चंद्रम अहाता एक्स्फोर्ट‌ ग्रामर स्कूल हिमायत नगर में मुनाक़िदा मुज़ाकरे से अपने ख़्यालात का इज़हार करते हुए माहिरीन ने कहा कि हुकूमत ने मुनज़्ज़म अंदाज़ में तेलंगाना के इंडस्ट्रीज़ को निशाना बनाकर तेलंगाना की अवाम के अर्सा हयात को तंग करने का काम किया है जिस का मक़सद मुस्तक्बिल में अलाहिदा रियासत तेलंगाना के क़ियाम के मुतालिबा को सबूताज करना था क्योंकि मआशी तौर पर पस्मांदा लोग अपने हक़ के लिए जद्द-ओ-जहद करने के बजाए उन्हें दरपेश मआशी मसाइल के हल पर अपनी ज़्यादा तर तवज्जा मर्कूज़ किए हुए रहते हैं ।

आई डी पी एल प्रागा टूल्ज़ निज़ाम शूगर फ़ैक्ट्री आज़म जाहि मिल्स एच एम टी की तबाही का असल ज़िम्मेदार आँध्राई हुकमरानों और सरमाया दारों को ठेहराते हुए माहिरीन ने मुशतर्का तौर पर कहा कि आसिफ़ जाह साबह जिन्हें अलाहिदा रियासत तेलंगाना मुख़ालिफ़ीन एक जाबिर हुकमरान क़रार देने की बारहा कोशिश करते हैं मगर उन्हों ने इस क़दर अज़ीम सनअती इदारों को पब्लिक सेक्टर बनाकर तेलंगाना के हर ख़ास व आम को इस्तिफ़ादा उठाने का मौक़ा फ़राहम किया था । मगर आंध्राई सरमाया दारों ने अपने ज़ाती अग़राज़ व मक़ासिद की तकमील और ख़ानगी सनअतों को फ़रोग़ देने के लिए तेलंगाना की मज़कूरा सनअतों को मुनज़्ज़म साज़िश के तहत तहस नहस करदिया हुकूमतें भी इस तबाही में बराबर की ज़िम्मेदारी हैं।

माहिरीन ने ख़ित्ता तेलंगाना में जारी ख़ुदकुशियों को भी मज्कूरा सनअतों के सबब पैदा शूदा सूरत-ए-हाल क़रार दिया । बिलखुसूस बेरोज़गारी मआशी मसाइब जैसे संगीन मसाइल तेलंगाना की अवाम को दरपेश हैं।

माहिरीन ने इस मौक़ा पर कहा कि ना सिर्फ आस्फ़िया दौर में क़ायम की गई तेलंगाना की सनअतें तबाह की जा रही हैं बल्कि
इंज़िमाम के बाद तेलंगाना के नाम पर क़ायम किए गए मुख़्तलिफ़ इदारे भी आंध्राई हुकमरानों और सरमाया दारों की असबीयत का शिकार हैं माहिरीन ने कहा कि निज़ाम इंस्टीटियूट ओफ़ मेडीकल साईंस यूनीवर्सिटी उस की ज़िंदा मिसाल है माहिरीन ने कहाकि जिस दवाखाने को तेलंगाना की अवाम के लिए सहूलतें फ़राहम करने का नाम देकर संग-ए-बुनियाद रखा गया था आज उसी दवाखाने को किसी ख़ानगी तिब्बी शोबे के हवाले करने की कोशिश की जा रही है ।

उन्हों ने कहा कि तेलंगाना के सनअती शोबा को अलाहीदा रियासत तेलंगाना की जद्द-ओ-जहद का हिस्सा बनाना वक़्त की अहम ज़रूरत है मुज़ाकरे में हिस्सा लेने वाले माहिरीन में साबिक़ जनरल सेक्रेटरी आई डी पी एल वि पी आर के एस मिस्टर बाला रेड्डी मिस्टर एपी रेड्डी सदर नशीन आज़म जाहि मिल्स‌ रिटायर्ड वर्कर्स संगम मिस्टर के रवी कनोनीर निज़ाम शूगर फ़ैक्ट्री तहफ़्फ़ुज़ कमेटी मिस्टर आर महेंद्रा और सी प्रभाकर काबिल-ए-ज़िक्र हैं सदर नशीन तेलंगाना रिसोर्स सेंटर मिस्टर एम वेद कुमार ने हसब रिवायत तमाम मेहमानों का इस्तिक्बाल किया सैंकड़ों तेलंगाना हामीयों ने मुज़ाकरा में शिरकत की।

TOPPOPULARRECENT