Tuesday , December 19 2017

तेलंगाना पर चीफ मिनिस्टर का बयान अवाम (जनता) की तौहीन

कांग्रेस के सीनियर क़ाइद (लीडर) साबिक़ रुक्न राज्य सभा डाक्टर के केशव राव ने तेलंगाना पर चीफ मिनिस्टर के रिमार्क्स को बद बख्ताना क़रार देते हुए कहा कि इस से तेलंगाना अवाम (जनता) के जज़बात को ठेस पहूँची है । चीफ मिनिस्टर रियासत को

कांग्रेस के सीनियर क़ाइद (लीडर) साबिक़ रुक्न राज्य सभा डाक्टर के केशव राव ने तेलंगाना पर चीफ मिनिस्टर के रिमार्क्स को बद बख्ताना क़रार देते हुए कहा कि इस से तेलंगाना अवाम (जनता) के जज़बात को ठेस पहूँची है । चीफ मिनिस्टर रियासत को मुत्तहिद रखने के हामी हैं और हम रियासत की तक़सीम चाहते हैं । 24 या 25 मई को तेलंगाना के कांग्रेस अरकान पार्लियामेंट (लोक सभा सदस्य) का इजलास (मीटिंग) तलब कर के मुस्तक़बिल की हिक्मत-ए-अमली (रणनीती) तय्यार करने का ऐलान किया ।

मीडिया से बात चीत करते हुए डाक्टर केशव राव ने कहा कि तेलंगाना की तहरीक (अंदोलन) अपनी तारीख रखती है और गुजिश्ता 50 साल से ज़ाइद अर्सा से चलाई जा रही है तेलंगाना तहरीक (अंदोलन) के बारे में मालूमात हासिल किए बगैर इस पर रिमार्क्स करना चीफ मिनिस्टर को ज़ेब (शोभा) नहीं देता । तेलंगाना में पैदा होने वाला हर फ़र्द अलहिदा तेलंगाना रियासत चाहता है । तरक़्क़ी तेलंगाना अवाम (जनता) का पैदाइशी-ओ-जमहूरी हक़ है । तेलंगाना तहरीक (अंदोलन) पर गैर ज़रूरी रिमार्क्स करके चीफ मिनिस्टर ने तेलंगाना के 4 करोड़ अवाम (जनता) के जज़बात को ठेस पहूँचाई है ।

चीफ मिनिस्टर रियासत को मुत्तहिद रखना चाहते हैं और हम तक़सीम चाहते हैं तेलंगाना की तशकील को कोई ताक़त भी नहीं रोक सकती है । मज़ीद 3 ता 4 माह में मर्कज़ की जानिब से अलहिदा तेलंगाना तशकील दीए जाने की उम्मीद है अगर नहीं दिया गया तो हम मुस्तक़बिल में कोई क़दम उठाने से गुरेज़ नहीं करेंगे । तेलंगाना अवाम (जनता) सिवाए तेलंगाना के दूसरी चीज़ पर समझौता नहीं करेंगे । चीफ मिनिस्टर तेलंगाना पर बयानबाज़ी से क़ब्ल तारीख पर मालूमात हासिल करलें ।

तेलंगाना कांग्रेस एम पीज़ अलहिदा रियासत तशकील देने हाईकमान पर दबाव बनाए हुए हैं और जमहूरी एहतिजाज करते हुए तेलंगाना अवाम (जनता) के जज़बात और एहसासात से मर्कज़ को तवज्जा दिलाने की कोशिश कर रहे हैं । पार्लियामेंट का इजलास (अधिवेशन) ख़त्म हो जाने के बाद 24 यह 25 मई को तेलंगाना एम पीज़ का इजलास (मीटिंग) तलब किया जायगा ताज़ा सूरत-ए-हाल और तहरीक (अंदोलन) का जायज़ा लेते हुए मुस्तक़बिल की हिक्मत-ए-अमली (रणनीती) तय्यार की जाएगी ।

TOPPOPULARRECENT