Thursday , January 18 2018

तेलंगाना पर नोट की मर्कज़ी काबीना में पेशकशी में ताख़ीर का इमकान

अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील को मर्कज़ी काबीना की मंज़ूरी में ताख़ीर होसकती है क्यूंकि अभी वज़ारत-ए-दाख़िला ने इस नोट को क़तईयत नहीं दी है जो काबीना को पेश किया जाना चाहीए।

अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील को मर्कज़ी काबीना की मंज़ूरी में ताख़ीर होसकती है क्यूंकि अभी वज़ारत-ए-दाख़िला ने इस नोट को क़तईयत नहीं दी है जो काबीना को पेश किया जाना चाहीए।

ज़राए ने कहा कि वज़ीर दाख़िला सुशील कुमार शिंदे ने अभी तक तेलंगाना पर नोट को काबीना में पेश करने की मंज़ूरी नहीं दी है। कहा जा रहा हैके शिंदे इस मुआमले में मर्कज़ी वज़ीर दिफ़ा ए के अनटोनी की क़ियादत में तशकील दी गई आली इख़तियार कमेटी की रिपोर्ट के मुंतज़िर हैं।

ये कमेटी अलाहिदा रियासत की तशकील के सिलसिले में रियासत के तीनों इलाक़ों के क़ाइदीन से तबादला ख़्याल कर रही है। इमकान हैके शिंदे इस नोट को पहले सदर कांग्रेस सोनिया गांधी और वज़ीर आज़म डक्टर मनमोहन सिंह को पेश करेंगे ताकि उसकी सयासी मंज़ूरी हासिल की जा सके।

इसके बाद ये वज़ारत क़ानून को क़ानूनी राय हासिल करने के लिए रवाना किया जाएगा जिसके बाद ही उसे काबीना से रुजू किया जा सकता है।

इमकान ज़ाहिर किया जा रहा हैके काबीना में अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील को मंज़ूरी दिए जाने के बाद एक वज़ारती ग्रुप तशकील दिया जाएगा जो तक़सीम रियासत के फैसले से होने वाले असरात का जायज़ा लेगा।

इस के बाद इमकान हैके एक क़रारदाद आंध्र प्रदेश असेंम्बली को रवाना की जाएगी ताकि नई रियासत तशकील दी जा सके। तेलंगाना रियासत तशकील के बाद मुल्क की 29 वीं रियासत होगी।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने 30 जुलाई को अपने मीटिंग में एक क़रारदाद मंज़ूर करते हुए तेलंगाना रियासत की तशकील से इत्तिफ़ाक़ किया था।

TOPPOPULARRECENT