Monday , April 23 2018

तेलंगाना पुलिस के जदीद लोगो को हुकूमत की मंज़ूरी

तेलंगाना की रियासती हुकूमत ने जदीद तेलंगाना पुलिस लोगो को मंज़ूरी दे दी जिस के शोल्डर बयाच पर देवनागरी रस्म उलख़त में सत्यामेव जायते दर्ज है जिस के बाद अंग्रेज़ी ज़बान में तेलंगाना स्टेट पुलिस लिखा गया है और तीन अलग अलग लाइन में फ़रीज

तेलंगाना की रियासती हुकूमत ने जदीद तेलंगाना पुलिस लोगो को मंज़ूरी दे दी जिस के शोल्डर बयाच पर देवनागरी रस्म उलख़त में सत्यामेव जायते दर्ज है जिस के बाद अंग्रेज़ी ज़बान में तेलंगाना स्टेट पुलिस लिखा गया है और तीन अलग अलग लाइन में फ़रीज़ा एहतेराम सिला रहमी दर्ज है।

तेलंगाना के डायरेक्टर जनरल पुलिस ने ये लोगो तजवीज़ किया था जिस को हुकूमत ने मंज़ूरी दी है। नए लोगो की अहम ख़द्द-ओ‍ख़ाल(ज़ाहिरी शकल ) में एक ढाल है जो तहफ़्फ़ुज़ क़ुव्वत-ए-इरादी और हिम्मत-ओ-जुर्रत की अलामत है और ये क़ानून नाफ़िज़ करने वाले इदारों के लिए दुनिया भर में इस्तेमाल की जाती है।

इस से पुलिस फ़ोर्स की एहमीयत उजागर होती है। लोगो पर क़ौमी निशान भी है जो दरअसल इख़तियार-ओ-अथॉरीटी की अलामत है। इस पर मौजूद चार बब्बर ताक़त जुर्रत फ़ख़र-ओ-इफ़्तिख़ार और एतेमाद को उजागर करते हैं।

देवनागरी रस्मउलख़त दर्ज फुक़रा सत्यामेव‌ जायते मुल्क इस के दस्तूर और हुकूमत के लिए फ़रीज़ा की याद दिलाता है। मज़ीदबराँ तिलाई क़ौमी निशान इस के तक़द्दुस को मज़ीद मुस्तहकम-ओ-दोबाला कर देता है।

स्याह पस मंज़र में सफ़ैद मोटे हुरूफ़ में तेलंगाना स्टेट दर्ज किया गया है जो नई रियासत की तशकील की निशानदेही करता है। लफ़्ज़ पुलिस सुर्ख़ पस-ए-मंज़र में सफ़ैद जली हुरूफ़ में लिखा गया है। सुर्ख़ पट्टी ताक़त और अथॉरीटी को उजागर करती है जो जुर्रत की अलामत भी समझी जाती है। लोगो के नीचे ज़ैतून के पत्ते हैं जो पुलिस की तरफ़ अमन रसाई और सिला रहमी की अलामत हैं।

TOPPOPULARRECENT