Monday , December 18 2017

तेलंगाना फ़ैसले के वादे पर कांग्रेस हाईकमान तज़बज़ब की शिकार

हैदराबाद 24 जनवरी : ऐसा मालूम होता हीके कांग्रेस पार्टी हाईकमान और मर्कज़ी हुकूमत फिर एक बार तेलंगाना के वादे के फ़ैसले से इन्हिराफ़ कर रही है।

हैदराबाद 24 जनवरी : ऐसा मालूम होता हीके कांग्रेस पार्टी हाईकमान और मर्कज़ी हुकूमत फिर एक बार तेलंगाना के वादे के फ़ैसले से इन्हिराफ़ कर रही है।

मर्कज़ी वज़ीर-ए-सेहत-ओ-इंचार्ज आंध्र प्रदेश कांग्रेस उमूर ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि तेलंगाना पर फ़ैसला करने के लिए कोई वक़्त मुक़र्रर नहीं है। मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंदे के बयान के मुताबिक़ एक माह में फ़ैसला करना ज़रूरी नहीं है।

एक हफ़्ते का मतलब 7 दिन नहीं बल्के दो तीन हफ़्ते भी होसकते हैं। पेचीदा मसले को हल करने के लिए मुज़ाकरात जारी हैं। क़ौमी सतह पर भी इत्तिफ़ाक़ राए ज़रूरी है। आज़ाद के बयान पर उस्मानिया यूनीवर्सिटी के तलबा ने एहतिजाज करते हुए इन का आग का पुतला नज़र-ए-आतिश किया।

तेलंगाना के कांग्रेस क़ाइदीन ने इस एलान को उन के लिए जहां बहुत बड़ा झटका क़रार दिया है वहीं सीमा आंध्र क़ाइदीन इस का ख़ौरमक़दम करते हुए रियासत तक़सीम ना होने का दावा किया। पिछ्ले एक माह से मुल्क के दार-उल-हकूमत दिल्ली में काफ़ी सरगर्मियां देखी गई। मर्कज़ और कांग्रेस हाईकमान की तरफ से कांग्रेस क़ाइदीन और आला सरकारी ओहदेदारों से तबादला-ए-ख़्याल करते हुए ये तास्सुर दिया गया कि 28 जनवरी तक तेलंगाना पर कोई फ़ैसला किया जाएगा।

इसी उम्मीद में कांग्रेस की नुमाइंदगी करने वाले कांग्रेस के दोनों इलाक़ों के क़ाइदीन दिल्ली में कैंप करके तेलंगाना की ताईद-ओ-मुख़ालिफ़त में मुहिम चला रहे थे, लेकिन ग़ुलाम नबी आज़ाद के बयान के बाद सीमांध्र के क़ाइदीन जहां जश्न मना रहे हैं वहीं तेलंगाना के क़ाइदीन में मायूसी छाई हुई है।

ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि 28 जनवरी तक तेलंगाना पर फ़ैसला करना ज़रूरी नहीं है। सुशील कुमार शिंदे वज़ीर-ए-दाख़िला बनने के बाद उन्होंने मालूमात हासिल करने के लिए तेलंगाना मसले पर कुल जमाती इजलास तलब किया था। उन्होंने कहा कि तेलंगाना एक पेचीदा मसला है उस को हल करने के लिए कोई वक़्त मुक़र्रर नहीं किया जा सकता। शिंदे ने जो एलान किया था इस पर अमल करना ज़रूरी नहीं है। कांग्रेस पार्टी तेलंगाना मुज़ाकरात को हल करने के लिए मुशावरत के अमल को जारी रखी हुई है। कांग्रेस को मज़ीद वक़्त की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT