Sunday , September 23 2018

तेलंगाना बिल पर मुबाहिस के लिए मज़ीद वक़्त ना देने की दरख़ास्त

तेलंगाना इलाके से ताल्लुक़ रखने वाले वुज़रा और अरकाने असेंबली ने सदर जमहूरीया को एक मकतूब रवाना करते हुए उन से दरख़ास्त की है कि तंज़ीम जदीद आंध्र प्रदेश बिल पर मुबाहिस और उस की वापसी के लिए वो रियासती असेंबली को और वक़्त ना दें।

तेलंगाना इलाके से ताल्लुक़ रखने वाले वुज़रा और अरकाने असेंबली ने सदर जमहूरीया को एक मकतूब रवाना करते हुए उन से दरख़ास्त की है कि तंज़ीम जदीद आंध्र प्रदेश बिल पर मुबाहिस और उस की वापसी के लिए वो रियासती असेंबली को और वक़्त ना दें।

सदर जमहूरीया ने ये बिल 12 दिसमबर को रियासती असेंबली को रवाना किया था और इस पर दस्तूर के आर्टीकल 3 के तहत मुबाहिस करते हुए उसे दुबारा सदर जमहूरीया से रुजू करने के लिए 23 जनवरी तक का वक़्त दिया गया था।

ये इत्तेलाआत गशत कर रही हैं कि सदर जमहूरीया आंध्र प्रदेश असेंबली को इस बिल की वापसी के लिए 10 दिन का इज़ाफ़ी वक़्त दे सकते हैं इसे में तेलंगाना से ताल्लुक़ रखने वाले वुज़रा और अरकाने असेंबली ने आज सदर जमहूरीया को एक मकतूब रवाना करते हुए इस अंदेशे का इज़हार किया है कि मुक़न्निना को मज़ीद वक़्त देने के नतीजे में तक़सीम रीय‌सात का अमल मुतास्सिर हो जाएगा।

तेलंगाना अरकाने असेंबली ने सदर जमहूरीया को रवाना करदा मकतूब में तहरीर किया है कि तेलंगाना इलाके के अवाम में ये तशवीश पाई जाती है कि अगर रियासती असेंबली को इस मुसव्वदा बिल की वापसी के लिए मज़ीद वक़्त दिया गया तो तेलंगाना रियासत की तशकील का अमल तात्तुल का शिकार होजाएगा।

TOPPOPULARRECENT