Monday , December 18 2017

तेलंगाना मसला पर सब्र-ओ-तहम्मुल से काम लिया जायॆ

हैदराबाद 10 नवंबर (सियासत न्यूज़) अलहदा तेलंगाना मसला पर कांग्रेस आली कमान की जानिब से बहुत जल्द फ़ैसले के ऐलान से मुताल्लिक़ जनरल सैक्रेटरी ए आई सी सी ग़ुलाम नबी आज़ाद के ब्यान का ख़ैर मुक़द्दम करते हुए साबिक़ रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती

हैदराबाद 10 नवंबर (सियासत न्यूज़) अलहदा तेलंगाना मसला पर कांग्रेस आली कमान की जानिब से बहुत जल्द फ़ैसले के ऐलान से मुताल्लिक़ जनरल सैक्रेटरी ए आई सी सी ग़ुलाम नबी आज़ाद के ब्यान का ख़ैर मुक़द्दम करते हुए साबिक़ रियास्ती वज़ीर-ए-क़लीयती बहबूद मुहम्मद अली शब्बीर ने कहा कि नई दिल्ली से वाज़िह तौर पर इशारे मिल रहे हैं कि पार्टी हाईकमान तॆलगाना मसला की यकसूई में संजीदा है।

उन्होंने कहा कि तेलंगाना से मुताल्लिक़ मर्कज़ के ऐलान तक तेलंगाना क़ाइदीन को तहम्मुल से काम लेना चाहियॆ।

मुहम्मद अली शब्बीर ने कहा कि ग़ुलाम नबी आज़ाद ने रियासत के तीनों इलाक़ों से ताल्लुक़ रखने वाले क़ाइदीन से तफ़सीली तौर पर मुशावरत की है और उन्हों ने दीगर ग़ैर सयासी तंज़ीमों से भी उन की राय हासिल की। अब जबकि मुशावरत का अमल मुकम्मल होचुका है पार्टी हाईकमान ने बहुत जल्द फ़ैसले के ऐलान की तैय्यारी कर ली है।

उन्हों ने कहा कि मौक़िफ़ के ऐलान में ताख़ीर से तलंगाना में अवाम उलझन का शिकार रहेंगी। उन्हों ने कहा कि मर्कज़ में बरसर-ए-इक्तदार यू पी ए हुकूमत को मुकम्मल इख़तियार दिया गया है कि वो हालात के पेशे नज़र कोई फ़ैसला करो। यू पी ए का फ़ैसला ही कांग्रेस का मौक़िफ़ तसव्वुर किया जाएगा।

मिस्टर शब्बीर ने उम्मीद ज़ाहिर की कि मर्कज़ी हुकूमत का फ़ैसला तेलंगाना अवाम के जज़बात को पेशे नज़र रखते हुए किया जाएगा। उन्हों ने कहा कि ग़ुलाम नबी आज़ाद के इस तीक़न के बाद ही कूमट रेड्डी वेंकट रेड्डी ने अपनी भूक हड़ताल ख़तम् कर दी।

उन्हों ने कहा कि वेंकट रेड्डी की भूक हड़ताल से तेलंगाना अवाम की आवाज़ पार्टी हाईकमान तक पहुंच चुकी ही। भूक हड़ताल के ज़रीया तलंगाना अवाम के जज़बात की तर्जुमानी की गई। उन्हों ने तलंगाना के इलाक़ों में तलगोदीशम सरबराह चंद्रा बाबू नायडू के दौरे पर सख़्त तन्क़ीद की और कहा कि नायडू को तलंगाना के दौरे का अख़लाक़ी हक़ हासिल नहीं है।

उन्हों ने कि चंद्रा बाबू नायडू ने अपने दौर-ए-हकूमत में बर्क़ी शरहों में कमी का मुतालिबा करने वाले किसानों पर फायरिंग का हुक्म दिया था। किसानों को जेलों में बंद किया गया और उन पर मुक़द्दमात दर्ज गए गई। अब किसानों की हमदर्दी के नाम पर तलंगाना में दाख़िल होने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्हों ने कहा कि चंद्रा बाबू नायडू अलहदा तलंगाना मसला पर अपने मौक़िफ़ से इन्हिराफ़ करचुके हैं लिहाज़ा तेलंगाना में दौरा करने से क़बल उन्हें चाहीए कि वो तलंगाना अवाम से माज़रत ख़्वाही करें।

TOPPOPULARRECENT