Sunday , December 17 2017

तेलंगाना मसले पर सोनिया गांधी वज़ीर आज़म की क़ियामगाहों पर मीटिंग

हैदराबाद 06 जनवरी: तेलंगाना मसले पर दिल्ली में सरगर्मीयां उरूज पर हैं। तेलंगाना वुज़रा के नुमाइंदे की हैसियत से दिल्ली गए हुए रियासती वज़ीर पंचायत राज के जाना रेड्डी सोनीया गांधी से मुलाक़ात के बगै़र हैदराबाद वापिस हो गए, जबके हाईकम

हैदराबाद 06 जनवरी: तेलंगाना मसले पर दिल्ली में सरगर्मीयां उरूज पर हैं। तेलंगाना वुज़रा के नुमाइंदे की हैसियत से दिल्ली गए हुए रियासती वज़ीर पंचायत राज के जाना रेड्डी सोनीया गांधी से मुलाक़ात के बगै़र हैदराबाद वापिस हो गए, जबके हाईकमान ने सदर प्रदेश कांग्रेस बी सत्य नाराय‌ना को दिल्ली तलब किया है।

आज कल में चीफ़ मिनिस्टर का भी दिल्ली पहुंचने का इमकान है। बावसूक़ ज़राए के बमूजब कांग्रेस सदर सोनीया गांधी तेलंगाना मसले को मज़ीद टालने के हक़ में नहीं हैं, जल्द इस मसले को हल करना चाहती हैं।

तेलंगाना मसले पर सोनीया गांधी और वज़ीर-ए-आज़म की क़ियामगाहों पर दो अहम मीटिंग मुनाक़िद हुए, जिस में मसला तेलंगाना पर फ़ौरी फ़ैसले से इत्तिफ़ाक़ किया गया । क्योंके कल जमाती मीटिंग के बाद मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला मिस्टर सुशील कुमार शंदे एक माह में इस मसले पर फ़ैसला करने का एलान करचुके हैं।

ज़राए के बमूजब राहुल गांधी मुल्क से बाहर हैं, जो 7 जनवरी को दिल्ली पहुंच रहे हैं। कल हैदराबाद में तेलंगाना कांग्रेस क़ाइदीन कि एक मीटिंग मुनाक़िद हुवि था, जिस में हैदराबाद को सदर मुक़ाम बनाते हुए अलहदा तेलंगाना रियासत की तशकील की क़रारदाद मंज़ूर की गई है।

इस क़रारदाद की कापी लेकर कल जाना रेड्डी दिल्ली पहुंचे और उन्हों ने मर्कज़ी वुज़रा एस जेपाल रेड्डी और ग़ुलाम नबी आज़ाद से मुलाक़ात की।

अलावा अज़ीं दीगर क़ाइदीन से की गई मुलाक़ात को जाना रेड्डी ने राज़ में रखा। इस सिलसिले में उन्हों ने मीडीया से बातचीत नहीं की। वो पार्टी सदर सोनीया गांधी से मुलाक़ात करते हुए क़रारदाद की कापी पेश करना चाहते थे, लेकिन सोनीया गांधी ने उन्हें मुलाक़ात का वक़्त नहीं दिया।

वो क़रारदाद की कापी जय पाल रेड्डी और ग़ुलाम नबी आज़ाद को पेश करके हैदराबाद लौट गए। ज़राए ने बताया कि आज़ाद ने जाना रेड्डी के बार बार दिल्ली पहुंचने पर एतराज़ करते हुए कहा कि कांग्रेस हाईकमान और मर्कज़ी हुकूमत मसला तेलंगाना के हल के लिए संजीदा कोशिश कर रही हैं, एसे में अगर किसी एक इलाके के क़ाइदीन से मुलाक़ात की जाती है तो दूसरे इलाके के क़ाइदीन भी दिल्ली पहुंच जाऐंगे, जिस से मसाइल पैदा होने के इमकानात बढ़ जाते हैं, लिहाज़ा दिल्ली आने की ज़रूरत नहीं है।

जाना रेड्डी ने उन्हें बताया कि पैकेज, बोर्ड और कौंसल से मसला हल नहीं होगा, अलहदा रियासत की तशकील ही वाहिद रास्ता है। ज़राए के बमूजब सोनीया गांधी ने जाना रेड्डी को मुलाक़ात का वक़्त नहीं दिया, ताहम कांग्रेस रुकन अ असेंबली एम शशी धर रेड्डी को अपनी क़ियामगाह तलब करके रियासत की सयासी सूरत-ए-हाल बिलख़सूस मसला तेलंगाना पर तबादला-ए-ख़्याल किया।

TOPPOPULARRECENT