Friday , June 22 2018

तेलंगाना मामले पर राव ने की मुखालिफत

नई दिल्ली। तेलंगाना राष्ट्र समिति-टीआरएस चीफ के चंद्रशेखर राव ने जुमेरात के रोज़ सदर जम्हूरिया प्रणब मुखर्जी को खत लिखकर नए रियासत की सरहद में फेरबदल करने के मकसद से मरकज़ की भारतीय जनता पार्टी हुकूमत की तरफ से आर्डिनेंस लाए जाने

नई दिल्ली। तेलंगाना राष्ट्र समिति-टीआरएस चीफ के चंद्रशेखर राव ने जुमेरात के रोज़ सदर जम्हूरिया प्रणब मुखर्जी को खत लिखकर नए रियासत की सरहद में फेरबदल करने के मकसद से मरकज़ की भारतीय जनता पार्टी हुकूमत की तरफ से आर्डिनेंस लाए जाने पर मुखालिफत जताया है। दो जून को वजूद में आने वाले रियासत तेलंगाना के वज़ीर ए आला के ओहदे की हलफ बरदारी लेने जा रहे टीआरएस चीफ ने अपने खत में जिक्र किया है कि मंडलों, गांवों और बस्तियों को आंध्र प्रदेश में जोडने का काम सिर्फ पार्लियामेंट की आईन के आर्टिकल 3 के तहत ही किया जा सकता है। आमला पाअर्लियामेंट की ताकतों / इख्तेयारात को नहीं हडप सकती है।

केसीआर के नाम से मशहूर राव ने यह भी जिक्र किया है कि सदर जम्हूरिया सिर्फ उसी सूरत में आर्डिनेंस जारी कर सकते हैं जब पार्लियामेंट का सेशन नहीं चल रहा हो और ऎसे में जब पार्लियामेंट का सेशन एक हफ्ते के अंदर शुरू होना है तो ऐसा करना गलत है।

अपने खत में राव ने कहा है कि ऐसे हालात होना चाहिए जब सदर जम्हूरिया के लिए फौरन कदम उठाने की दरकार हो। इस मामले में अचानक से ऐसी कोई गैर मामूली हालात पैदा नहीं हुई है। ऐसे ही हालात तबपैदा हुई थी जब फरवरी 2014 में पार्लियामेंट में आंध्र प्रदेश के तंज़ीम नव बिल (Restructuring Bill) पर बहस चल रही थी। उस वक्त सदर जम्हूरिया के फैसले में बदलाव की जरूरत नहीं समझी गई थी। इसी मुद्दे पर टीआरएस ने जुमेरात को तेलंगाना बंद का ऐलान किया था।

राव ने कहा कि पालावरम प्रोजेक्ट को फिर से तैयार किया जाना चाहिए क्योंकि इसके मौजूदा शक्ल में काबायली कम्युनिटी के सैकडों गांव डूबने में आ रहे हैं। आर्डिनेंस में तेलंगाना के खम्मम जिले के सात मंडलों, 136 गांवों और 211 बस्तियों को आंध्र प्रदेश में शामिल करने का प्रोविज़न किया गया है। यह इलाका पोलावरम प्रोजेक्ट के डूबने वाले इलाके में आ सकता है।

TOPPOPULARRECENT