Wednesday , December 13 2017

तेलंगाना मुलाज़मीन के साथ नाज़ेबा सुलूक की मज़म्मत

क़ाज़ी सयद अरशद पाशाह साबिक़ वाइस चैरमैन मुंसीपल कौंसिल-ओ-सीनीयर क़ाइद ज़िला कांग्रेस ने इस बात पर तशवीश का इज़हार किया कि सीमा आंध्र इलाक़ों में तेलंगाना के मुलाज़मीन के साथ नाज़ेबा सुलूक किया जा रहा है।

क़ाज़ी सयद अरशद पाशाह साबिक़ वाइस चैरमैन मुंसीपल कौंसिल-ओ-सीनीयर क़ाइद ज़िला कांग्रेस ने इस बात पर तशवीश का इज़हार किया कि सीमा आंध्र इलाक़ों में तेलंगाना के मुलाज़मीन के साथ नाज़ेबा सुलूक किया जा रहा है।

क़ाज़ी सयद अरशद पाशाह ने तिरूपति में रुकन पार्लीमैंट वे हनुमंत राव‌ के क़ाफ़िले पर हमले की मज़म्मत की। उन्होंने याद दिलाया कि साबिक़ सदर प्रदेश कांग्रेस डी श्रीनिवास, साबिक़ वज़ीर मुहम्मद अली शब्बीर एम एलसी और तेलंगाना के तमाम कांग्रेसी क़ाइदीन ने बारहा इस बात का इआदा किया है कि तेलंगाना अज़ला में रहने वाले आंध्रई बाशिंदों की ज़िंदगीयों को कोई ख़तरा नहीं।

ज़िला निज़ाम आबाद के हदूद में वाक़्ये वाणी में एक आंध्रई ख़ातून को तेलंगाना वाले देही अवाम ने ग्राम सरपंच मुंतख़ब करके साबित कर दिया है कि तेलंगाना अवाम इलाक़ाई तास्सुब नहीं रखते।

क़ाज़ी सयद अरशद पाशाह ने सीमा। आंध्र क़ाइदीन और सरमाया दारों को इंतिबाह दिया कि वो अपनी मुफ़ाद परस्त पालिसी के तहत आग से ना खेलें। तेलंगाना अवाम के सब्र-ओ-तहम्मुल का इमतेहान ना लें, वर्ना उन्हें पछताना पड़ेगा।

TOPPOPULARRECENT