Friday , November 24 2017
Home / AP/Telangana / तेलंगाना में आज़ादी का जश्न 15 अगस्त से 17 सितंबर तक मनाया जाये:मोदी

तेलंगाना में आज़ादी का जश्न 15 अगस्त से 17 सितंबर तक मनाया जाये:मोदी

हैदराबाद 08 अगस्त: मुल्क में हिंदुस्तानी अवाम यौमे आज़ादी से एक हफ़्ता तवील तिरंगा यात्रा निकालेंगे लेकिन तेलंगाना अवाम 15 अगस्त से 17 सितंबर तक तिरंगा यात्रा का एहतेमाम करें क्युं कि उन्हें हिंदुस्तान को आज़ादी हासिल होने के 13माह बाद आज़ादी हासिल हुई थी। स्ंबेधन

वज़ीर-ए-आज़म हिंद नरेंद्र मोदी ने फ़तह मैदान पर बीजेपी कारकुनों से ख़िताब के दौरान ये बात कही। उन्होंने कहा कि मुल्क के इस ख़ित्ता(रीजन) को सरदार वल्लभ भाई पटेल ने आज़ादी दिलवाई है।उन्होंने आज के दिन को शहरे हैदराबाद के लिए तारीख़ साज़ दिन क़रार देते हुए कहा कि तेलंगाना खास्कर हैदराबाद की तरक़्क़ी का शीला न्यास रखा गया है। नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद को तारीख़ साज़ सरज़मीन क़रार देते हुए कहा कि उनके वज़ीर-ए-आज़म के उम्मीदवार बनाए जाने से पहले हैदराबाद में अनोखा सियासी जलसा-ए-आम मुनाक़िद किया गया जिसमें दाख़िला बज़रीया टिकट रखा गया था जिसने मुल्क के सियासी मुबस्सिरीन में फ़िक्री तबदीली लाने में कलीदी किरदार अदा किया और इस मीटिंग में शरीक कारकुनों को देखते हुए उन्होंने दावे किया कि ये मंज़र तेलंगाना के सियासी मुस्तक़बिल को तबदील करने की अक्कासी कर रहा है।

मोदी ने मुल्क में यकजहती के फ़रोग़ को नागुज़ीर क़रार देते हुए कहा कि किसी भी मुल्क या रियासत की तरक़्क़ी का इन्हिसार मुल्क की फ़िर्कावाराना हम-आहंगी और अमन-ओ-यकजहती पर होताहै।उन्होंने कहा कि उनकी हुकूमत का हाईकमान मुल्क के 125 करोड़ अवाम हैं और उनकी ख़ाहिश के मुताबिक़ हुकूमत काम करेगी।

दलितों के ख़िलाफ़ होने वाले वाक़ियात का तज़किरा करते हुए नरेंद्र मोदी ने जज़बाती अंदाज़ में कहा कि जो लोग दलितों को अपना वोट बैंक तसव्वुर करते हैं वो हुकूमत को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो हुकूमत को बदनाम करना चाहते हैं वो उन पर हमला करें और उन पर गोली चल्लाऐं लेकिन दलितों को निशाना ना बनाएँ। नरेंद्र मोदी ने इन्सानियत का दरस देते हुए कहा कि मुल्क की तरक़्क़ी को यक़ीनी बनाने मुल्क में अमन-ओ-आश्ती भाई चारगी और हम-आहंगी ज़रूरी है।इसी लिए हुकूमत इन्सानियत के ख़िलाफ़ किसी भी जुर्म को बर्दाश्त नहीं करेगी।

मोदी ने कहा कि मज़हब ज़ात या ज़बान की बुनियाद पर मुआशरे की तक़सीम को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आज़ादी के 70 बरस गुज़रने के बावजूद कुछ एसे इक़दामात करने बाक़ी हैं जो नहीं किए जा सके इस बात को तस्लीम किया जाना चाहीए। वज़ीर-ए-आज़म ने पसमांदा तबक़ात की तरक़्क़ी को इजतेमाई ज़िम्मेदारी क़रार देते हुए कहा कि यकसाँ तरक़्क़ी के मन्सूबे को अमली जामा पहनाने के लिए मर्कज़ी हुकूमत की तरफ से इक़दामात किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मौजूदा मुआशरे में अगर दलितों के साथ ना इंसाफ़ी होती है तो एसी सूरत में मुल्क और दुनिया हमें माफ़ नहीं करेगी। उन्होंने जीएसटी बिल पर तमाम सियासी जमातों से इज़हार-ए-तशक्कुर करते हुए कहा कि इस विल के रोशनास करवाए जाने के बाद मुल्क की यकसाँ तरक़्क़ी को मुम्किन बनाया जा सकता है।

नरेंद्र मोदी की पार्टी मीटिंग में शिरकत के सिलसिले में हैदराबाद आमद के मौके पर सख़्त सयान्ती इंतेज़ामात किए गए थे और लाल बहादुर स्टेडीयम के अतराफ़-ओ-अकनाफ़ के तिजारती इलाक़ों को बंद करवा दिया गया था जिसके सबब अवाम को मुश्किलात का सामना करना पड़ा। इसी तरह अतराफ़ के इलाक़ों में कई घंटों पहले ट्रैफ़िक की आमद-ओ-रफ़त रोक दी गई थी।

 

TOPPOPULARRECENT