तेलंगाना से गिरफ्तार बांग्लादेशी का दारुल उलूम देवबंद में पुलिस को नहीं मिला कोई रिकॉर्ड!

तेलंगाना से गिरफ्तार बांग्लादेशी का दारुल उलूम देवबंद में पुलिस को नहीं मिला कोई रिकॉर्ड!

तेलंगाना में गिरफ्तार किए गए बांग्लादेशी नागरिक के पास से दारुल उलूम की आईडी और अन्य दस्तावेज मिलने के चलते शनिवार को पुलिस उसे लेकर देवबंद पहुंची, लेकिन दारुल उलूम में उसका कोई रिकॉर्ड नहीं मिला। दो दिन पूर्व तेलंगाना पुलिस ने अवैध रूप से भारत में रह रहे बांग्लादेशी नागरिक सुलेमान को गिरफ्तार किया था।

अमर उजाला पर छपी खबर के अनुसार, उपाध्याय ने अपनी याचिका में कहा था कि राष्ट्रव्यापी जनसंख्या आंकड़ों की बजाय राज्य में एक समुदाय की जनसंख्या के संदर्भ में अल्पसंख्यक शब्द को पुन:परिभाषित करने और उस पर पुन:विचार किए जाने की आवश्यकता है।

याचिका में कहा गया था कि हिंदू जो राष्ट्रव्यापी आकंड़ों के अनुसार एक बहुसंख्यक समुदाय है वह पूर्वोत्तर के कई राज्यों और जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक है।

याचिका में कहा गया कि हिंदू समुदाय उन लाभों से वंचित है जो कि इन राज्यों में अल्पसंख्यक समुदायों के लिए मौजूद हैं। अल्पसंख्यक पैनल को इस संदर्भ में ‘अल्पसंख्यक’ शब्द की परिभाषा पर पुन:विचार करना चाहिए।

Top Stories