Thursday , December 14 2017

तेलंगाना से मुताल्लिक़ उमोर पर वज़ारती ग्रुप का ग़ौर-ओ-ख़ौज़

तेलंगाना पर वज़ारती ग्रुप ने रियासत आंध्र प्रदेश की तक़सीम से मुताल्लिक़ मुख़्तलिफ़ उमोर पर तबादला-ए-ख़्याल किया, जबकि मर्कज़ी वज़ीरे दाख़िला सुशील कुमार शिंदे ने एलान किया है कि अलाहिदा रियासत के लिए बिल पार्लियामेंट के जारी सेशन म

तेलंगाना पर वज़ारती ग्रुप ने रियासत आंध्र प्रदेश की तक़सीम से मुताल्लिक़ मुख़्तलिफ़ उमोर पर तबादला-ए-ख़्याल किया, जबकि मर्कज़ी वज़ीरे दाख़िला सुशील कुमार शिंदे ने एलान किया है कि अलाहिदा रियासत के लिए बिल पार्लियामेंट के जारी सेशन में पेश किया जाएगा।

समझा जाता हैके वज़ारती पैनल ने सीमांध्र से ताल्लुक़ रखने वाले मर्कज़ी वुज़रा के मुतालिबात का जायज़ा लिया जिन में हैदराबाद को महिदूद मुद्दत के लिए मर्कज़ी ज़ेरे इंतज़ाम इलाक़ा क़रार देना और भद्राचलम सब डीवीझ़न को आंध्र प्रदेश में शामिल करना है।

सुशील कुमार शिंदे ने तक़रीबन एक घंटा तवील मीटिंग के बाद ज़राए इबलाग़ के नुमाइंदों से बातचीत करते हुए बताया कि पार्लियामेंट का सेशन ख़त्म होने से पहले तेलंगाना बिल एवान में पेश कर दिया जाएगा, ताहम उन्होंने इस सवाल का कोई जवाब नहीं दिया कि क्या यू पी ए हुकूमत इस बिल को मंज़ूरी दिला सकेगी।

आज वज़ारती ग्रुप के मीटिंग की सुशील कुमार ने सदारत की ताहम उन्होंने तफ़सीलात बताने से गुरेज़ किया और सिर्फ़ इतना कहा कि मुज़ाकरात का सिलसिला जारी है। ज़राए ने बताया कि मीटिंग में सीमांध्र के मर्कज़ी वुज़रा के पेश करदा मुतालिबात का जायज़ा लिया गया।

मर्कज़ी काबीना, वज़ारती ग्रुप की रजामंदी के बाद क़ानूनसाज़ी के मुसव्वदा का जायज़ा लेगी, फिर उसे पार्लियामेंट में पेश किया जाएगा। मर्कज़ी काबीना की मंज़ूरी के बाद ये क़ानून सदर जमहूरीया की तौसीक़ के लिए भेजा जाएगा जिस के बाद पार्लियामेंट में पीशकशी अमल में आएगी। माहिरीन की ये राय है कि असेंबली में बिल को मुस्तर्द करने के बावजूद पार्लियामेंट नई रियासत तशकील के लिए क़ानूनी पेशरफ़त करसकती है।

पारलीमानी सेशन जो कल शुरू हुआ, 21फ़बरोरी तक जारी रहेगा और ये यू पी ए II हुकूमत का आख़िरी सेशन है। अलाहिदा रियासत तेलंगाना के हामी और मुख़ालिफ़ ग्रुपस उस वक़्त नई दिल्ली में सरगर्म हैं और मुख़्तलिफ़ सियासी जमातों से रब्त बरक़रार रखे हुए हैं।

TOPPOPULARRECENT