Monday , January 22 2018

तेलंगाना हुकूमत शोबा सेहत में बेहतरी के लिए संजीदा

हुकूमत तेलंगाना शोबा-ए-सेहत में बेहतरी के लिए संजीदा है और हुकूमत सरकारी दवाख़ानों के हालत-ए-ज़ार को बेहतर बनाने के लिए 552 करोड़ का बजट मुख़तस करचुकी है।

हुकूमत तेलंगाना शोबा-ए-सेहत में बेहतरी के लिए संजीदा है और हुकूमत सरकारी दवाख़ानों के हालत-ए-ज़ार को बेहतर बनाने के लिए 552 करोड़ का बजट मुख़तस करचुकी है।

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर-ओ-वज़ीर-ए-सेहत टी राजिया ने एवान असेंबली में वकफ़ा-ए-सवालात के दौरान उठाए गए सवालात के जवाब देते हुए बताया कि हुकूमत तेलंगाना की तरफ से हर ज़िला हेडक्वार्टर हॉस्पिटल को सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में तबदील करने के लिए 10 करोड़ रुपये मुख़तस किए गए थे जबकि उस्मानिया हॉस्पिटल के लिए 100 करोड़ रुपये मुख़तस किए गए हैं।

इसी तरह गांधी हॉस्पिटल के लिए भी 100 करोड़ रुपये का बजट मुख़तस किया गया है। नीलोफ़र हॉस्पिटल को 30 करोड़ रुपये जारी करने का फ़ैसला किया गया है।

पेटलाबुरज और सुलतानबाज़ार में वाक़्ये ज़चगीख़ानों को 25 , 25 करोड़ रुपये जारी करने का फ़ैसला किया गया है। इसी तरह कैंसर हॉस्पिटल के लिए 25 करोड़ रुपये की तख़सीस अमल में लाई गई है। हुकूमत तेलंगाना ने ई एन टी , चेस्ट और मेन्टल हॉस्पिटल के लिए अली उल-तरतीब 10 करोड़ रुपये मुख़तस करने का फ़ैसला किया है।

टी राजिया ने तेलुगु देशम रुकने असेंबली प्रकाश गौड़ और ऐस राजेंद्र रेड्डी की तरफ से उठाए गए सवालात का जवाब दे रहे थे। अकबरुद्दीन ओवैसी ने दरमयान में ज़ेली सवाल उठाते हुए उस्मानिया हॉस्पिटल की ना गुफ़्ता बह हालत का तज़किरा किया।हॉस्पिटल में मौजूद मिशनरी की अदम कारकर्दगी से एवान को वाक़िफ़ करवाया और ज़ेली सवालात के दौरान उन्होंने वज़ीर-ए-सेहत की तरफ से दिए गए तहरीरी जवाब पर एतेराज़ करते हुए कहा कि वज़ीर-ए-सेहत एवान को गुमराह कररहे हैं।

उन्होंने वज़ीर-ए-सेहत से मुतालिबा किया कि वो हालात पर रास्त जवाब दें, सियासी तक़ारीर ना करें। डॉ के लक्ष्मण रुकने असेंबली भारतीय जनता पार्टी ने इसी दौरान ज़ेली सवालात उठाते हुए डॉक्टर्स की क़िल्लत के मसले को पेश किया और बताया कि बरसहा बरस से उस्मानिया दवाख़ाना को रंग-ओ-रोगन तक नहीं हुआ है।

उन्होंने एवान को दरकार डॉक्टर्स की तादाद और मौजूदा हालत से वाक़िफ़ करवाया। डाक्टर टी राजिया ने अरकाने असेंबली की तरफ से उठाए गए सवालात का जवाब देते हुए बताया कि बजट में शोबा-ए-सेहत को हुकूमत तेलंगाना ने काफ़ी एहमीयत दी है और निम्स हॉस्पिटल के लिए 200 करोड़ रुपये मुख़तस किए हैं।

उन्होंने बताया कि वो ख़ुद पेशा-ए-तिब्ब से वाबस्ता हैं और उन्हें इस बात का अंदाज़ा हैके सरकारी दवाख़ानों में मरीज़ों को किन मुश्किलात से दो-चार होना पड़र हा है।

डॉ टी राजिया ने बताया कि मुत्तहदा रियासत आंध्र प्रदेश में तेलंगाना में शोबा-ए-तिब्ब के साथ हुई नाइंसाफ़ीयों का अज़ाला किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वज़ारत-ए-सेहत का जायज़ा लेने के फ़ौरी बाद उन्होंने गांधी हॉस्पिटल का दौरा करते हुए तकालीफ़-ओ-सहूलतों के मुताल्लिक़ तफ़सीलात से आगही हासिल की और गुज़श्ता पाँच माह के दौरान उन्होंने तीन मर्तबा उस्मानिया दवाख़ाना का दौरा किया है।

उन्होंने बताया कि वर्ंगल के दवाख़ाना में उन्होंने शब बसरी करते हुए हालात से आगही हासिल की। वज़ीर-ए-सेहत ने कहा कि रियासती हुकूमत सरकारी दवाख़ानों को कॉरपोरेट तर्ज़ पर तरक़्क़ी देने का मंसूबा तैयार किए हुए है।

TOPPOPULARRECENT