Monday , August 20 2018

तेल कंपनीयों का सरबराही मस्दूद करने का इंतेबाह

सरकारी मिल्कियत वाली तेल कंपनीयों ने आज इंतेबाह दिया कि अगर उन्हें इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत पर पेट्रोल फ़रोख्त करने की इजाज़त नहीं दी गई या फिर हुकूमत ने इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत से कम क़ीमत पर पेट्रोल फ़रोख्त करने पर यौमिया 40 करोड़ रुपय के नुक़्सान के अ

सरकारी मिल्कियत वाली तेल कंपनीयों ने आज इंतेबाह दिया कि अगर उन्हें इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत पर पेट्रोल फ़रोख्त करने की इजाज़त नहीं दी गई या फिर हुकूमत ने इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत से कम क़ीमत पर पेट्रोल फ़रोख्त करने पर यौमिया 40 करोड़ रुपय के नुक़्सान के अज़ाला का कोई मुतबादिल रास्ता नहीं निकाला तो तेल की सरबराही में रुकावट पैदा हो सकती है।

इंडियन ऑयल कारपोरेशन (IOC) के सदर नशीन आर एस बोटोला ने अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए कहा कि सूरत-ए-हाल इंतिहाई तशवीशनाक है। पेट्रोल की फ़रोख्त पर हमें 7.67 रुपय फ़ी लीटर का नुक़्सान बर्दाश्त करना पड़ रहा है और 20 फ़ीसद सेल्स टैक्स का इज़ाफ़ा अगर शामिल किया जाए तो इज़ाफ़ा शूदा क़ीमत 9.20 रुपय फ़ी लीटर होगी।

TOPPOPULARRECENT