तो कांग्रेस शिवपाल यादव को पार्टी में शामिल कर अखिलेश से रिश्ते नहीं करना चाहती है खरब!

तो कांग्रेस शिवपाल यादव को पार्टी में शामिल कर अखिलेश से रिश्ते नहीं करना चाहती है खरब!

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्ववर्ती समाजवादी सरकार में पूर्व कैबिनेट मंत्री, जसवंतनगर से विधायक शिवपाल सिंह यादव की सियासी मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। एक बार फिर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ही अपने चाचा की मुसीबत का कारण बने हैं। अखिलेश यादव के चलते चाचा शिवपाल यादव की बात बनते-बनते बिगड़ती दिख रही है।

दरअसल शिवपाल यादव के कांग्रेस में शामिल होने की खबरें आ रही थीं। शिवपाल खुद कोई नई पार्टी न बनाकर कांग्रेस में शामिल होना चाहते थे, लेकिन चाचा का ख्वाब फिलहाल सच होता नहीं दिख रहा है। चाचा के ख्वाब में हर बार की तरह इस बार भी उनका भतीजा अखिलेश यादव ही रुकावट बन रहा है।

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस ये बिलकुल नहीं चाहती कि शिवपाल यादव को पार्टी में शामिल करके सपा और अखिलेश यादव से रिश्ते खराब किए जाएं।

यूपी के प्रभारी और कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आजाद ने खुद शिवपाल यादव के कांग्रेस में शामिल होने खी खबरों पर फुल स्टॉप लगा दिया है।

उन्होंने कहा कि अभी जो कांग्रेस में शामिल हुए हैं बस उतने ही हैं। शिवपाल के कांग्रेस में आने पर आजाद ने कहा कि अभी जो हैं वही है।

दरअसल जानकार ये मान रहे हैं कि गुलाम आजाद इस बात से डर गए हैं कि कहीं शिवपाल को पार्टी में लाने से प्रियंका गांधी और राहुल गांधी नाराज न हो जाएं। कुल मिलाकर अखिलेश ही अपने चचा की राह में रोड़ा बन गए हैं।

Top Stories