Wednesday , December 13 2017

त्यूनस के अव्वलीन सदर का इंतिख़ाब

त्यूनस के शहरीयों ने आज पहली बार 2011 के इन्क़िलाब के बाद सदारती इंतिख़ाबात में हक़ रायदही से इस्तिफ़ादा किया। ये रायदही जम्हूरी तरीक़ा से इक़्तेदार की मुंतक़ली को दर्पेश खतरों का ख़ातमा कर देती है।

त्यूनस के शहरीयों ने आज पहली बार 2011 के इन्क़िलाब के बाद सदारती इंतिख़ाबात में हक़ रायदही से इस्तिफ़ादा किया। ये रायदही जम्हूरी तरीक़ा से इक़्तेदार की मुंतक़ली को दर्पेश खतरों का ख़ातमा कर देती है।

27 उम्मीदवार मुक़ाबला में थे। साबिक़ वज़ीरे आज़म बीजी क़ाइद इसबसी जिन की उम्र 87 साल हैं और जो मुख़ालिफ़ इस्लामी निदा त्यूनस पार्टी के उम्मीदवार थे पार्लीमानी इंतिख़ाबात में कामयाब हुए।

उसी पार्टी को गुज़िश्ता माह मुनाक़िदा आम इंतिख़ाबात में भी अक्सरीयत हासिल हुई है। सदारती ओहदा के लिए मुक़ाबला करने वालों में सुबुकदोश सदर मुंसिफ़ मर्ज़ूकी वुज़रा जो साबिक़ डिक्टेटर ज़ैनुल आबदीन बिन अली के मातहत रह चुके हैं।

बाएं बाज़ू के हुमा हम्मामी और तिजारती तबक़ा की मशहूर शख़्सियत सलीम रियाही और एक ख़ातून उम्मीदवार मजिस्ट्रेट ख़ीतोम कूनो शामिल थे। कम अज़ कम 83 लाख अहले राय दहिन्दे हैं।

TOPPOPULARRECENT