त्रिपुरा: राम मंदिर की आधारशिला रखने पर BJP के खिलाफ शिकायत, कहा- वामपंथी इतिहास मिटाने की कोशिश

त्रिपुरा: राम मंदिर की आधारशिला रखने पर BJP के खिलाफ शिकायत, कहा- वामपंथी इतिहास मिटाने की कोशिश
Click for full image

दक्षिण त्रिपुरा जिले के आदिवासी क्षेत्र में एक भूखंड पर राम मंदिर की आधारशिला रखने के लिए सत्तारूढ़ भाजपा और सनातन सेना के खिलाफ विपक्षी माकपा ने शिकायत दर्ज कराई है. यहां वाम दल ने एक साल पहले पट्टिका लगाई थी. यह जानकारी पुलिस ने रविवार को दी. शिकायत मिलने की पुष्टि करते हुए दक्षिणी त्रिपुरा के पुलिस अधीक्षक जल सिंह मीणा ने बताया कि आदिवासी गांव मताई में मंदिर की आधारशिला पांच अक्टूबर को रखी गई और 15 अक्टूबर को शिकायत दर्ज कराई गई.

उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच की जा रही है. हालांकि, इस घटना के संबंध में किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है. माकपा की जिला कमेटी सचिव तापस दत्ता ने बताया कि प्रदेश में सत्ता में रहते वक्त पार्टी ने मोहिनी त्रिपुरा की याद में 2017 में पट्टिका लगाई थी, जिन्होंने वन भूमि पर झूम खेती को रोकने की कोशिश की थी और तत्कालीन कांग्रेस सरकार के खिलाफ चलाए गए 1967 के आंदोलन में वह शहीद हो गई थीं.

दत्ता ने बताया कि पट्टिका निजी भूमि पर लगाई गई थी जिसे दक्षिणपंथी संगठन सनातन सेना और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उखाड़ फेंका. उन्होंने कहा, ‘यह प्रदेश के वामपंथी आंदोलन के इतिहास को मिटाने की कोशिश है.’ मीणा ने बताया कि हो सकता है कि पहले भूमि का मालिक वाम दल को पट्टिका लगाने के लिए जमीन दान करने के लिए तैयार हो लेकिन बाद में हो सकता है कि उसका विचार बदल गया और उसने राम मंदिर के लिए भूमि दान देने का निर्णय लिया हो. प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष सुबल भौमिक ने कहा कि माकपा कार्यकर्ताओं ने स्मारक निर्माण के लिए स्थानीय व्यक्ति की भूमि पर जबरन कब्जा कर लिया था.

Top Stories