Wednesday , December 13 2017

तक़सीम रियासत के बावजूद अवाम शेर-ओ-शुक्र की तरह बाहम मुत्तहिद

चीफ़ मिनिस्टर आंध्र प्रदेश एन चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश रियासत में आज़मीने हज्ज की रवानगी के लिए अलाहिदा ख़ुसूसी फ्लाइट के आग़ाज़ और हज हाउज़ की तामीर का एलान किया।

चीफ़ मिनिस्टर आंध्र प्रदेश एन चंद्रबाबू नायडू ने आंध्र प्रदेश रियासत में आज़मीने हज्ज की रवानगी के लिए अलाहिदा ख़ुसूसी फ्लाइट के आग़ाज़ और हज हाउज़ की तामीर का एलान किया।

चंद्रबाबू नायडू ने हज हाउज़ नामपली से रवाना होने वाले आंध्र प्रदेश के आज़मीने हज्ज को विदा क्या। इस मौके पर ख़िताब करते हुए चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि चूँकि दोनों रियासतें मुनक़सिम होचुकी हैं लिहाज़ा उनकी हुकूमत मुस्तक़बिल में आंध्र प्रदेश के आज़मीन के लिए रवानगी का अलाहिदा इंतेज़ाम करेगी।

इस के अलावा आंध्र प्रदेश के किसी मर्कज़ी मुक़ाम पर हज हाउज़ तामीर किया जाएगा। चंद्रबाबू नायडू ने इस बात पर मुसर्रत का इज़हार किया कि दो रियासतों की तक़सीम के बावजूद अवाम बाहम शेर-ओ-शुक्र ज़िंदगी बसर कररहे हैं।

उन्होंने आंध्र प्रदेश के आज़मीने हज्ज के लिए हैदराबाद में किए गए इंतेज़ामात पर इतमीनान का इज़हार किया और कहा कि रियासत भले ही तक़सीम होचुकी है लेकिन हमें मुत्तहदा तौर पर आगे बढ़ने की ज़रूरत है।

चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि हज एक इंतिहाई मुक़द्दस इबादत है और हज बैतुल्लाह के लिए रवाना होनेवाले आज़मीन यक़ीनन ख़ुशकिसमत है। हज के मौके पर सारी इंसानियत की भलाई और अमन के लिए दुआ की जाती है।

उन्होंने कहा कि इब्तिदा-ए-में मुत्तहदा आंध्र प्रदेश के आज़मीन मुंबई या फिर बैंगलौर से रवाना होते थे लेकिन उन्होंने ना सिर्फ़ हैदराबाद से रवानगी का इंतेज़ाम किया बल्कि शहर के मर्कज़ी मुक़ाम पर हज हाउज़ की इमारत तामीर की। नायडू ने कहा कि मैंने ही इस इमारत का संग-ए-बुनियाद रखा था और मैंने ही इस का इफ़्तिताह किया।

हैदराबाद में फ़िर्कावाराना हम आहंगी और अमन की बरक़रारी के सिलसिले में उनके दौरे हुकूमत में किए गए इक़दामात का ज़िक्र करते हुए चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि हैदराबाद में अमन की बरक़रारी अवाम के जान-ओ-माल का तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाना उन की हुकूमत का कारनामा है।

उन्होंने हैदराबाद को फ़िर्कावाराना फ़सादाद से पाक कर दिया है। उन्होंने कहा कि 14 अज़ला में उर्दू को दूसरी सरकारी ज़बान का दर्जा उनके दौर में ही दिया गया। अक़लियतों की तालीमी तरक़्क़ी के लिए मेडिकल और इंजीनीयरिंग कॉलेजस के क़ियाम की मंज़ूरी दी गई। शादी ख़ाने और उर्दू घर की तामीर का आग़ाज़ उनके दौर-ए-हकूमत में हुआ।

नायडू ने कहा कि मसाजिद के लिए वक़्फ़ बोर्ड की तरफ से इमदाद की इस्कीम का मुल्क में पहली मर्तबा आंध्र प्रदेश में आग़ाज़ हुआ था।

TOPPOPULARRECENT