Friday , December 15 2017

थाईलैंड: छात्रावास में लगी आग, 17 छात्राओं की मौत, कई ज़ख्मी

उत्तरी थाईलैंड में अधिकारियों का कहना है कि आज सोमवार 23 मई को बच्चों के एक स्कूल के छात्रावास में आग लगने से 17 कमसिन छात्राओं की मौत हो गई हैं। इस स्कूल में पहाड़ी जनजातियों से जुड़ी बच्चियां अध्ययन थीं। धर्मार्थ धन से चलाए जाने वाले इस स्कूल को बीती रात आग की लपटों ने अपनी चपेट में ले लिया और आग की तीव्रता के कारण बच्चे इमारत से बाहर निकलने में सफल न हो सके।

थाईलैंड के शहर च्यांग राय में पुलिस के अधिकारी कर्नल परायाद सनगसन ने एएफपी को बताया कि छात्रावास की इमारत में आग बीती रात 11 बजे लगी जिससे 17 बच्चियां मारे गए और पांच घायल हुईं। कर्नल सनगसन के अनुसार घायलों में से दो बच्चियों की हालत चिंताजनक है जबकि दो छात्राएं, जिनके बारे में आशंका थी कि वह लापता हैं, को बचाव दल ने जले हुए मलबे से निकाल लिया है। उनका कहना था कि आग लगने का कारण अभी तक मालूम नहीं हो सका और इस बारे में जांच जारी है। च्यांग राय के एक प्रांतीय अधिकारी ने मौतों की पुष्टि करते हुए बताया कि निजी स्कूल में 6 से 13 वर्ष की बच्चियां रहते थे।

रविवार की रात स्कूल के छात्रावास में दुर्घटना का शिकार होने वाली ज्यादातर बच्चियों का संबंध उनके स्थानीय पहाड़ी जनजातियों से था, जो शहरी क्षेत्रों से बहुत दूर रहते हैं और जिनके बच्चों के लिए दैनिक यात्रा करके स्कूल आना संभव नहीं होता। प्रांत के उप राज्यपाल अरकोम सोकअपन ने एएफपी को बताया कि दुर्घटना के समय छात्रावास में 38 छात्राएं थीं। आग लगने के समय कुछ छात्राओं कि उस समय जागरूक थीं इमारत से भागने में सफल हो गई। स्कूल के फेसबुक पेज पर जारी तस्वीरों में अग्निशमन को लकड़ी से निर्माण किया हॉस्टल की इमारत में आग बुझाने के प्रयासों में लगे हुए दिखाया गया है। थाईलैंड में बहु आदिवासी पहाड़ी जनजातियां रहते हैं जो ज्यादातर लाओस और म्यांमार की सीमा में पिछड़े उत्तरी क्षेत्र में रहते हैं।

उनमें से ज्यादातर म्यांमार और चीन के शरणार्थियों की पीढ़ी के हैं। इस जनजातियों ने अपनी विशिष्ट बोलियों और रस्म रिवाज से जुड़े हुए हैं और अपनी आजीविका के लिए खेती करते हैं। उनमें से ज्यादातर जनजातियां राज्य संसाधन उपयोग से वंचित हैं जिससे उनके बच्चे शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास के क्षेत्र में पिछड़े रह जाते हैं। अलग रहने वाले ये जनजातियां पर्यटकों के लिए भी दिलचस्पी की वजह हैं हालांकि अतीत में पर्यटकों की ओर से वहां खींची गई तस्वीरों पर आलोचना भी किया जाता रहा है। इन तस्वीरों में कुछ पर्यटक इन जनजातियों की अनूठी संस्कृति और जीवन शैली को उपहास का निशाना बनाने के अलावा उन्हें ‘मनुष्य का चिड़ियाघर’ की तरह पेश किया था। चियांग राय कस्बे और उसके आसपास मौजूद पहाड़ हायकनग और साहसिक खेलों के लिए भी विदेशी पर्यटकों में बहुत लोकप्रिय हैं।

TOPPOPULARRECENT